covid-19: Ministry of Health has issued revised guidelines for segregated habitat

मनपा अतिरिक्त आयुक्त ने जारी किए निर्देश

पुणे. कोरोना का प्रकोप रोकने के लिए महापालिका प्रशासन की ओर से काफी मेहनत की जा रही है. सर्वे, क्वारंटाइन कक्ष से लेकर आयसोलेशन वार्ड, विभिन्न कक्ष बनाने का काम प्रशासन द्वारा किया है. उसके लिए मनपा कर्मियों के साथ ही शिक्षा विभाग के कर्मियों को भी इस काम पर लगा दिया गया है, लेकिन अब स्कूलों के काम भी शुरू किए गए है. ऐसे में यहां पर कर्मियों की कमी होगी. 

इस वजह से इन कर्मियों को कोरोना काम से मुक्त करने की मांग शिक्षा विभाग द्वारा मनपा आयुक्त से की गई थी. प्रशासन द्वारा 1500 से अधिक शिक्षा कर्मियों को इस काम से  मुक्त कराया हैं. लेकिन इसमें से 116 उप अध्यापकों को फिर से इस काम पर तैनात किया गया है. अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल द्वारा यह निर्देश जारी किए गए है.

सर्वे के लिए अधिग्रहित किए थे शिक्षाकर्मी

पुणे शहर के 15,क्षेत्रीय कार्यालयाअंतर्गत आनेवाले झोपड़पट्टी के नागरिकों का सर्वे शुरू किया गया है. इसमें पुरे परिवार की जांच की जा रही है. जिन इलाको में ज्यादा कोरोना बाधित मिले हैं, ऐसे इलाके में सर्वे किया जा रहा है. साथ ही घर पर जाकर जांच की जा रही है. शहर में किए जा रहे इस सर्वे के लिए  मनपा के विभिन्न विभाग के कर्मियों के साथ ही नर्सेस ,समूहसंघटिका,आशा सेविका, लेखनिक, शिक्षा विभाग के कर्मी काम कर रहे है. 

576 टीम बनाई गई 

स्वास्थ्य से संबंधित लक्षण दिखे जाने के बाद तत्काल उन्हें अस्पताल दाखिल किया जाएगा. प्रशासन द्वारा इसके लिए कुल 1152 कर्मी काम पर लगा दिए है. लगभग 576 टीम बनाई गई है. एक टीम में 2 कर्मियों का समावेश है. इसी काम के लिए शिक्षा विभाग के कर्मियों को नियुक्त किया था. साथ ही रिसर्वे किया जा रहा है. सर्वे साथ ही कोरोना के विभिन्न कामों के लिए शिक्षा विभाग के करीब 1700-1800 कर्मी अधिग्रहित किए थे.

डाटा एंट्री से संबंधित करने हैं काम

इस बीच, अब शिक्षा विभाग द्वारा 15 जून से प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों का काम शुरू किया है. प्रशासन द्वारा ऑनलाइन के माध्यम से शिक्षा दी जा रही है. साथ ही स्कूलों के भी कई काम है. इन कामों के लिए अब अध्यापक व शेष कर्मियों की आवश्यकता है. इस वजह से इन सभी कर्मियों को कोरोना से मुक्त कराने की मांग प्रशासकीय अधिकारी मीनाक्षी राऊत ने मनपा आयुक्त से की थी. उसके अनुसार इन कर्मियों को कोरोना काम से मुक्त करने का नियोजन किया जा रहा था. प्रति दिन 150 घरों का जिन लोगों ने सर्वे पूरा किया है. ऐसे करीब 1500 से अधिक शिक्षा कर्मियों को कोरोना के काम से मुक्त कर स्कूल के कामों के लिए अधिग्रहित किया है, लेकिन इसमें से 116 उप अध्यापकों को फिर से इस काम पर तैनात किया गया है. अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल द्वारा यह निर्देश जारी किए गए है. विभिन्न परिमंडल के निहाय इन लोगों को डाटा एंट्री से संबंधित सभी काम करने पड़ेंगे.