Hirabai Ghule is the new Deputy Mayor of Pimpri-Chinchwad

    पिंपरी. पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका (Pimpri-Chinchwad Municipal Corporation) में घोषित उप महापौर (Deputy Mayor) के चुनाव (Election) में सत्तादल भाजपा (BJP) ने बाजी मार ली है। मंगलवार को हुए चुनाव में नामांकन वापसी की निर्धारित मियाद में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के पंकज भालेकर ने अपना नामांकन वापस ले लिया। 

    इसके चलते सत्तादल भाजपा की हीराबाई उर्फ नानी घुले के निर्विरोध निर्वाचन का रास्ता आसान बन गया। जारी पंचवर्षीय सत्र में घुले पांचवीं उपमहापौर बनी हैं। उनसे पहले के दो उपमहापौरों को चार से पांच माह में ही इस्तीफा देना पड़ा। नतीजन नानी घुले को कितना कार्यकाल मिलेगा? यह देखना दिलचस्प होगा।

    जमकर नाचे समर्थक

    बहरहाल उप महापौर चुने जाने के बाद चंद मिनटों में ही नानी घुले और उनके समर्थकों ने महामारी कोरोना की रोकथाम के मद्देनजर लागू किए गए नियम और प्रतिबंधों को तार-तार कर दिया। उनके समर्थकों ने चुनाव के तुरंत बाद नियमों को ताक पर रखते हुए जश्न मनाना शुरू कर दिया। उनके नेता के उप महापौर चुने जाने की खुशी में नाचते-गाते, धूम मचाते वक्त न किसी को मास्क पहनने का अहसास रहा न सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का, जबकि कोरोना के मद्देनजर नियमों का उल्लंघन न हो, इसके लिए यह चुनाव ऑनलाइन तरीके से कराया गया। चुनाव के बाद नवनिर्वाचित उप महापौर घुले पर फूलों की बारिश करते हुए उनके सैकड़ों समर्थक ढोल-ताशा की धुन पर झूमकर नाचे।

    क्या एक्शन लेंगे मनपा कमिश्नर

    एक तरफ मनपा कमिश्नर राजेश पाटिल शहरवासियों से कोरोना के नियमों का पालन करने की अपील के साथ कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दे रहे हैं, मास्क अनिवार्यता और सोशल डिस्टटिंग के उल्लंघन पर लोगों से जुर्माना वसूला जा रहा है, खुद महापौर ऊषा ढोरे सप्ताह में दो दिन जनता कर्फ्यू लगाने के पक्ष में हैं। वहीं दूसरी ओर नई उप महापौर नानी घुले और उनके समर्थकों ने पहले ही दिन नियमों को तार-तार कर दिया। अब मनपा कमिश्नर उनके खिलाफ क्या एक्शन लेते हैं? यह देखना दिलचस्प होगा।

    कितने समय तक पद पर रहेंगी कहा नहीं जा सकता

    तुषार हिंगे के बाद केशव घोलवे को भी कार्यकाल पूरा होने से पहले अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा। घोलवे पर तो यह नौबत चार माह में ही आ गई। कम समय में ज्यादा नगरसेवकों को पद देने की सत्तादल भाजपा की नीति शुरू से ही उसके नेताओं के सहूलियत के अनुसार ही रही है। घोलवे के इस्तीफे के बाद रिक्त हुए उप महापौर की सीट के लिए मंगलवार को चुनाव घोषित किया गया। इसके लिए मनपा में विशेष आम सभा का आयोजन किया गया था।संभागीय आयुक्त के आदेश से पुणे मनपा की अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल इस चुनाव के लिए निर्वाचन अधिकारी थीं। सुबह 11 बजे चुनाव प्रक्रिया शुरू की गई , नामांकन पत्रों की छंटनी के बाद नामांकन वापसी के लिए 15 मिनट की मोहलत दी गई। इस मियाद में राष्ट्रवादी कांग्रेस के पंकज भालेकर ने नामांकन पत्र वापस लिया। इसके चलते निर्वाचन अधिकारी रूबल अग्रवाल ने भाजपा की नानी उर्फ हीराबाई घुले के निर्विरोध चुने जाने की घोषणा की। घुले दिघी बोपखेल प्रभाग  4 से पहली बार नगरसेविका चुनी गई हैं।