स्वतंत्रता आंदोलन में वकीलों का योगदान अहम

  • राकां सांसद वंदना चव्हाण ने की सराहना

पुणे. भारतीय संविधान को दुनिया में सबसे बेहतर संविधान माना जाता है और इसका सारा श्रेय डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर को जाता है। अगर किसी ने भी वास्तव में देश के स्वतंत्रता आंदोलन और उत्थान में योगदान दिया है, तो वह इस देश के वकीलों ने।

पूर्व प्रधानमंत्री पंडित नेहरू, डॉ. राजेंद्र प्रसाद, महात्मा गांधी, डॉ. बाबासाहेब आम्बेडकर  वकील थे। जिन्होंने इस देश के लिए काफी कुछ सहा। ऐसे विचार सांसद वंदना चव्हाण ने व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि हमारे अधिकारों के लिए लड़ना हमारी ज़िम्मेदारी है। इस देश के लिए अब वह समय एकबार फिर आ गया है। उस समय को ठीक करने के लिए, सभी वकीलों को एक साथ आना चाहिए और हमारी ज़िम्मेदारी को समझना चाहिए। आने वाले महापालिका  चुनावों में एक जागरूक नागरिक के रूप में हमें दिखना चाहिए।

वकीलों का गौरव समारोह  

हर साल की तरह, इस साल भी राकांपा, वार्ड नंबर 9 की ओर से सभी वकीलों के लिए आयोजित समारोह में चव्हाण बोल रहीं थीं। महापरिनिर्वाण दिवस पर बाबासाहेब आम्बेडकर को आदरांजलि दी गई।  नगरसेवक बाबूराव चांदेरे  ने वकीलों की प्रशंसा में कहा कि वकील सभी सामान्य नागरिकों और न्याय प्रणाली के बीच मुख्य कड़ी हैं और उनके काम की सराहना करना कोई असामान्य बात नहीं है।

बड़ी संख्या में सहभागिता

इस आयोजन में पुणे बार एसोसिएशन के अध्यक्ष- अधिवक्ता सतीश मुलिक, उपाध्यक्ष एड. योगेश तुपे, एड. सचिन हिंगनेकर, सचिव- सलाहकार एड. विकास बाबर, सदस्य- एडवोकेट महेश भांडे,  आनंद धोत्रे, सचिन पोटे, एनसीपी एडवोकेट्स सेल के अध्यक्ष गणेश जगताप,  प्रवीण नलवाडे, पांडुरंग थोरवे,  दिलीप शेलार, पूर्व नगरसेवक रोहिणी चिमटे, अर्जुन नानवारे, चेतन बालवड़कर, मनोज बलवाडकर, शेखर साइकर, संजय तम्हाणे, सुशील मुरकुटे, प्रणव कलमकर, प्राजक्ता तम्हाने, ओमकार रणपिसे आदि उपस्थत थे। कांग्रेस पार्टी के वार्ड नंबर 9 के सभी पदाधिकारी और कार्यकर्ता भी बड़ी संख्या में उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन कोथरुड़ विधानसभा के कार्यकारी अध्यक्ष नितिन कलमकर  और धन्यवाद  वार्ड अध्यक्ष विशाल विधाते ने किया।