शहीद संतोष बाबू एक्स एनडीए ब्रेव हार्ट्स में शामिल

पुणे. पूर्वी लद्दाख में चीनी सेना के साथ झड़प में शहीद हुए कर्नल बी. संतोष बाबू को राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) ने शनिवार को श्रद्धांजलि दी और उन्हें ‘एक्स एनडीए ब्रेव हार्ट्स’ में शामिल किया. गलवान घाटी में 15 जून की रात चीनी सैनिकों के साथ हुई झड़प में शहीद हुए 20 भारतीय सैनिकों में कर्नल बाबु भी शामिल थे. उन्होंने अपनी शिक्षा एनडीए से पूरी की थी.

 पुष्पचक्र किया अर्पित

लेफ्टिनेंट जनरल असित मिस्त्री ने एनडीए के सभी अफसरों और रंगरूटों तथा एक्स-एनडीए परिवार की ओर से पुष्पचक्र चढ़ाया. एनडीए की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, कर्नल बाबू अकादमी की समृद्ध परंपराओं के अनुरुप जिए. कर्नल बाबू जुलाई 2010 से दिसंबर 2011 तक एनडीए में इंस्ट्रक्टर रहे. उन्हें उनकी निस्वार्थ सेवा, ड्यूटी के प्रति समर्पण और बहादुरी के लिए याद किया जाएगा. एनडीए परिवार दुख की इस घड़ी में उनके परिवार के साथ है.

 छात्र रह चुके 

एनडीए ने इस बारे में जारी किए एक बयान में कहा, शहीद कर्नल बी. संतोष बाबू, 16वीं बिहार रेजीमेंट, राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के 105 पाठ्यक्रमों के छात्र रह चुके हैं. ड्यूटी के दौरान 15/16 जून की दरमियानी रात पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के झड़प में वह शहीद हुए. अभूतपूर्व परिस्थितियों में उनकी बहादुरी, नेतृत्व और प्रतिबद्धता एक एक्स-एनडीए अफसर की पहचान है. अकादमी ने कहा कि कर्नल बाबू का नाम सुनहरे अक्षरों में ‘हट ऑफ रिमेंबरेंस’ की दीवारों पर लिखा गया है और उन्हें ‘एक्स-एनडीए ब्रेव हार्ट्स’ की सूची में डाला गया है.