Do you know why women wear anklets on their feet

-सीमा कुमारी 

 भारतीय महिलाओं को श्रृंगार के नाम पे काफी सारे गहना पहनने को मिलते है. उनमें से एक, पायल ऐसा गहना जो किसी भी उम्र में पहना जाता है, और जब महिला इसे पहन लेती है, तो उनकी पावों की चाल बदल जाती है. पैरों में पायल पहनने से महिलाओं के पैरों की खूबसूरती में चार चाँद लग जाते है. सोलह श्रृंगार में शामिल पायल की मधुर आवाज पुरुषों को अपनी ओर आकर्षित करने का अचूक नुस्खा है. इसलिए आज भी अधिकांश महिलाएं अपने पैरों में पायल पहनती हैं. पैरों में आल्ता भी लगाया जाता है. आल्ता लगे हुए पैरों में चांदी की चमकता हुई पायल देखने में अति सुंदर लगती है. चलिए जानते है पायल पहनने के वैज्ञानिक और धार्मिक कारण:  

धर्म के अनुसार:

धार्मिक रूप से देखा जाए तो सोने को लक्ष्मी का स्वरूप माना गया है. भगवान विष्णु की भी सबसे प्रिय वस्तु सोना ही हैं. यही कारण है कि सोने को शरीर के नीचले हिस्सों में नहीं पहना जाता. कहा भी गया है कि लक्ष्मी स्वरूप सोने को पैरों में पहनने से उसका अपमान होता है.

वैज्ञानिक क्या कहते हैं:

साइंटिफिक या वैज्ञानिक रूप से देखा जाए तो सर गर्म होता है और पैर ठंडे होते हैं. शरीर के तापमान के बैलेंस को बनाएं रखने के लिए कमर के नीचे चांदी के आभूषण पहने जाते हैं. सोने के गहने गर्म और चांदी के गहने ठंडे होते हैं. इसीलिए कहा गया है कि कमर के नीचे चांदी के आभूषण पहनने से शरीर में गर्मी और शीतलता का संतुलन बना रहता है.