File Photo
File Photo

    -विनय कुमार

    अपने अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट के डेब्यू मैच में कानपुर के ग्रीनपार्क स्टेडियम में खेले जा रहे न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज के पहले टेस्ट मैच में भारतीय टीम के युवा बल्लेबाज श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए इतिहास रच दिया। अय्यर ने अपने पहले टेस्ट मैच की पहली पारी में सेंचुरी और दूसरी पारी में शानदार हाफ सेंचुरी ठोकी।

    गौरतलब है कि कानपुर टेस्ट मैच (India vs New Zealand Kanpur Test Match, 2021) की दोनों पारियों में श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) ने उस वक्त मोर्चा संभाला जब भारतीय पारी की गाड़ी पटरी से लगभग उतर चुकी थी। उन्होंने इस मैच की पहली पारी में 105 और दूसरी पारी में 65 रनों की ‘दिलजीत पारी’ खेली। भारतीय टीम की दूसरी पारी की बल्लेबाजी में एक वक्त ऐसा था जब भारत का स्कोर 5 विकेट पर सिर्फ 51 रन था।

    इसके बाद श्रेयस अय्यर ने ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) के साथ मिलकर लड़खड़ा चुकी पारी को पटरी पर लाया और इसे एक सम्मानजनक स्कोर तक ले जाने में बड़ी भूमिका निभाई। बीते रविवार, यानी कल, चौथे दिन के खेल की समाप्ति के बाद श्रेयस अय्यर ने अपनी टीम के कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid Coach Team India) के साथ अपनी बातचीत को लेकर खुलासा किया और बताया कि द्रविड़ ने उन्हें क्रीज पर डटकर खेलने के लिए प्रेरित किया।

    श्रेयस ने कहा “आखिरी में हमें मैच जीतना होगा। और यह मेरे लिए सबसे अहम बात होगी। राहुल सर (Rahul Dravid) ने कहा कि मुझे जितना हो सके क्रीज पर बने रहना चाहिए और स्कोर बढ़ाना होगा। मेरा ध्यान सेशन और ज्यादा से ज्यादा गेंद खेलने पर था। इससे ज्यादा मैं नहीं सोच रहा था। बस वर्तमान समय पर गौर करते हुए खेल रहा था।”

    श्रेयस ने अगले बताया, ,”सच कहूं तो विकेट पर कुछ खास नहीं हो पा रहा था। हमें (Team India) सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचने की आवश्यकता थी। 275-280 रन के करीब। हमें अपने टीम के स्पिन गेंदबाजों पर भरोसा  करना होगा। हमें इस बात पर यकीन करना चाहिए कि मैच के आखिरी दिन यकीनन वे न्यूज़ीलैंड की टीम को दबाव में ला सकते हैं। 

    श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) ने कहा कि उन्हें लग रहा था कि 250 रनों को चेज़ करना इस मैदान पर कठिन होगा। उन्होंने अपनी बल्लेबाजी की संघर्षभरी पारी को लेकर भी कुछ बातें की। उन्होंने कहा, “मैं पहले भी ऐसी स्थितियों में खेल चुका हूं, लेकिन टीम इंडिया के साथ नहीं। मैं रणजी खेलों में (Ranji Trophy Shreyas Iyer) ऐसा करता था।”