Team India
File Photo

    -विनय कुमार

    भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज और फिलहाल हिंदी कमेंट्री के ‘राजधानी एक्सप्रेस’ आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने भारतीय टीम की चयन प्रक्रिया को कठघरे मेंं खड़ा कर दिया है। आकाश के मुताबिक, सिर्फ इसी खामी की वजह से इंग्लैंड की टीम भारत की T20 टीम से बेहतर है। उन्होंने  चुटकी लेते हुए कहा, यदि इंग्लैंड के टेस्ट टीम के कप्तान जो रूट  (Joe Root) भारत में होते तो उन्हें T20 टीम की कप्तानी सौंप दी जाती। 

    अपने यूट्यूब चैनल पर एक सवाल के जवाब में आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने बताया कि कैसे इंग्लैंड के तेज़ गेंदबाज जोफ्रा आर्चर (Jofra Archer) और बेन स्टोक्स (Ben Stokes) जैसे खिलाड़ियों के बगैर भी इंग्लैंड इतना शानदार प्रदर्शन कर रहा है। भारतीय टीम मैनेजमेंट को इससे सीखना चाहिए।

    आकाश चोपड़ा ने कहा, “यह टीम (England) हमेशा फिलॉसफी के साथ चलती है। उनके इरादे एकदम साफ़ रहते हैं। T20 World Cup के लिए उन्होंने ‘The Hundred’ और ‘T20 Blast’ जैसे डोमेस्टिक टूर्नामेंट के आधार पर खिलाड़ियों को चुना। उन्होंने उन खिलाड़ियों को ही मौका दिया, जो T20 फॉर्मेट या White Ball Cricket में अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे। यही इस फॉर्मेट (T20 Cricket) की जरूरत भी है।”

    उन्होंने आगे कहा कि, T20 World Cup के लिए इंग्लैंड (England) ने टेस्ट क्रिक्रेट (Test Cricket) के प्रदर्शन पर ध्यान ही नहीं दिया। चाहे कोई भी खिलाड़ी कितना अच्छा क्यों न करे। आप जो रूट (Joe Root) को ही देख लीजिए। अगर रूट भारत में होते तो उन्होंने T20 टीम (Team India) का कप्तान बना दिया जाता। ऐसा ही भारत में होता है, लेकिन इंग्लैंड इस तरह नहीं सोचता।”

    सीमित ओवर क्रिकेट का इतिहास बताता है कि बीते कुछ सालों में इंग्लैंड क्रिकेट टीम व्हाइट बॉल क्रिकेट (ODI T20) में बेहतरीन प्रदर्शन कर रही है। 2019 का ODI World Cup भी इंग्लैंड ने ही जीता था। और, ताज़ा T20 World Cup में भी इंग्लैंड की टीम बेहतरीन प्रदर्शन कर रही है।

    गौर करने वाली बात ये है कि जोफ्रा आर्चर (Jofra Archer), बेन स्टोक्स (Ben Stokes), सैम करन (Sam Curran) जैसे कुछ धुरंधर और धाकड़ खिलाड़ी इंजरी की वजह से टीम से बाहर हैं। इसके बावजूद इंग्लैंड की टीम में किलिंग इंस्टिंक्ट कायम है।