जहीर ख़ान के इस ‘गुरूमंत्र’ ने बदल डाली हर्षल पटेल की किस्मत, जानिए कैसे आई उनकी गेंदबाजी में घातक धार

    -विनय कुमार

    भारत और न्यूजीलैंड के बीच जारी ताज़ा टेस्ट सीरीज से पहले खेली गई 3 मैचों की T20 I सीरीज में (India vs New Zealand T20 I Series, 2021) भारतीय टीम के महाघातक तेज गेंदबाज हर्षल पटेल (Harshal Patel) और ऑल राउंडर वेंकटेश अय्यर ,(Venkatesh Iyer) को इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करने का अवसर मिला। गौरतलब है कि दोनों ही खिलाड़ियों ने लीग क्रिकेट के महाकुंभ IPL के पिछले सीजन IPL 2021 में बेहतरीन प्रदर्शन किया था।

    जिसके बाद उन्हें टीम इंडिया टीम में मौका दिया गया। इन दोनों खिलाड़ियों ने अपने चयनकर्ताओं को न्यूज़ीलैड के खिलाफ खेले गई T20 सीरीज में निराश नहीं किया। आईपीएल वाले राखड़ प्रदर्शन को जारी रखते हुए उन्होंने भारत की 3-0 से सीरीज की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। अब भारत के साउथ अफ्रीका दौरे में खेली जाने वाली लिमिटेड ओवर फॉर्मेट की सीरीज (ODI T20 India vs South Africa, Series, 2022) के लिए टीम सिलेक्टर्स एक बार फिर इन दोनों को चुन सकते हैं।

    अपनी गेंदबाजी में कंसिस्टेंसी के पीछे वजह का जिक्र करते हुए हर्षल पटेल (Harshal Patel) ने बताया कि कैसे टीम इंडिया के पूर्व धुरंधर तेज़ गेंदबाज जहीर खान (Zaheer Khan) से मिले ‘गुरूमंत्र’ ने उनकी गेंदबाजी में सकारात्मक बदलाव लाने में सहायता की। गौरतलब है कि हर्षल पटेल ने IPL 2021 में बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए कुल खेले 15 मैचों में 14.34 की औसत से 32 विकेट चटकाए थे। यही नहीं आईपीएल के किसी एक सीजन में सबसे ज्यादा विकेट चटकाने वाले गेंदबाज बने थे और अनकैप्ड इंडियन बोलर का कीर्तिमान अपने नाम किया था।

    जहीर खान से मिले ‘गुरूमंत्र’ ने बदली किस्मत

    IPL का इतिहास बताता है कि प्लेऑफ में उनकी गेंदबाजी जबरदस्त रही। यही एक खास वजह भी रही कि उनकी टीम प्लेऑफ में भी पहुंची। हर्षल को ‘Most Valuable Player’ (IPL) का अवॉर्ड भी दिया गया। इसके बाद जब उन्हें T20 इंटरनेशनल के लिए टीम इंडिया में मौका मिला तो उन्होंने गेंदबाजी के अलावा बल्लेबाजी में भी अपना जौहर दिखाया। जिसकी वजह से उन्हें ‘Man of The Match’ का पुरस्कार भी मिला।

    हर्षल पटेल ने बताया कि जब वो ‘दिल्ली कैपिटल्स’ (Delhi Capitals DC) की टीम में थे, तो उस समय जहीर खान (Zaheer Khan) के साथ बातचीत करने का अवसर मिला था। उस मुलाकात में मैंने उनसे लेग स्टंप की तरफ लहराकर निकलने वाली गेंदों में सुधार लाने के लिए उनसे सलाह मांगी।

    यहां थी हर्षल पटेल की गेंदबाजी में खामी

    एक न्यूज़ एजेंसी से अपनी खास बातचीत में हर्षल पटेल ने कहा, “जब मैं ‘दिल्ली कैपिटल्स’ (DC Delhi Capitals) में था, और हम मुंबई (Mumbai Indians MI) के खिलाफ खेल रहे थे, तो मुझे जहीर भाई (Zaheer Khan) के साथ बात करने का मौका मिला। मेरी गेंदबाजी में एक बहुत बड़ी परेशानी थी कि मेरी गेंद लेग स्टंप की तरफ़ जाती नजर आती थी। मैंने इसी को लेकर उनसे सलाह मांगी। उन्होंने बताया कि मेरी बोलिंग में यह खामी मेरे गेंद फेंकने के एंगल में है। उस एंगल के साथ जब मैं गेंद को ऑफ स्टंप (off stump) पर फेंकता हूं, तो वो अपने आप ही लेग स्टंप (leg stump) की तरफ निकल जाती है।” 

    ज़हीर ख़ान से मिले ‘गुरूमंत्र’ से बने ‘डेथ ओवर स्पेशलिस्ट’

    हर्षल पटेल (Harshal Patel) ने कहा, ,”जहीर भाई ने मुझे इससे बचने के लिए सलाह दिया और कहा कि मैं जिस रिलीज एंगल पर बोलिंग  करता हूं, उससे बॉल फेंकते ऑफ़ साइड में छठे या 7वें स्टंप को टारगेट करते हुए गेंद फेंकू। इससे मेरी गेंद ऑफ स्टंप (off stump) की तरफ़ जाकर गिरेगी। जहीर भाई के इस सुझाव ने मेरी बोलिंग में बहुत बड़ा बदलाव ला दिया और मेरी कंसिस्टेंसी बेहतर होने के बाद मैं और अच्छी गेंदबाजी में बेहतर कर सका।”

    इसमें कोई दो राय नहीं है कि गौरतलब है कि हर्षल पटेल (Harshal Patel) की बोलिंग में काफी बदलाव किया। और मैदान में वापसी करने के बाद उनकी गेंदबाजी में काफी विविधता भी मौजूद हैं। इस वजह से वे एक बेहतरीन गेंदबाज बनकर उभरे हैं। गौरतलब है कि डेथ ओवर्स (Death Overs Harshal Patel) में हर्षल पटेल की गेंदबाजी इतनी मारक और खतरनाक रही है कि IPL 2021 में कई मंजे हुए बल्लेबाजों को पसीने आ गए।