दिग्गज क्रिकेटर और बेबाक नेता नवजोत सिंह सिद्धू आज मना रहे हैं अपना 57वां जन्मदिन, जानें उनके बारे में

    नई दिल्ली. क्रिकेटर और पॉलिटिशियन नवजोत सिंह सिद्धू आज अपना 57वां जन्मदिन मना रहे हैं। उनका का जन्म 20 अक्टूबर 1963 को पंजाब के पटियाला में हुआ था। उनके पिता का नाम सरदार भगवंत सिंह सिद्धू है, जो एक क्रिकेटर थे। वे अपने बेटे नवजोत को हाई लेवल के क्रिकेटर के रूप में देखना चाहते थे। जिसके चलते नवजोत ने क्रिकेट को ही अपने करियर के तौर पर चुना। सिद्धू दुनियाभर के दिग्गज क्रिकेटरों में से एक है, जिन्होंने देश के लिए कई अहम पारियां खेली। सिद्धू राजनीति में भी काफी सक्रिय है। वे हमेशा बेबाकी से अपनी बात रखते हैं। इसके अलावा वे उनके शायराना अंदाज के लिए भी काफी प्रसिद्ध है।

    नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी स्कूली पढाई पटियाला के यदिवेंद्र स्कूल से पूरी की। इसके बाद उन्होंने चंडीगढ़ के मोहिन्द्रा कॉलेज में दाखिला लिया जहां से उन्होंने ग्रेजुएशन की पढाई पूरी की। इसके बाद उन्होंने पंजाब यूनिवर्सिटी से कानून की पढाई पूरी की।

    नवजोत सिंह सिद्धू के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरुआत 1983 हुई, जहां उन्होंने अपना पहला टेस्ट मैच वेस्ट इंडीज के खिलाफ अहमदाबाद में खेला था। वहीं सिद्धू ने अपनी पहली वनडे सेंचुरी पाकिस्तान के खिलाफ 1989 में शारजाह में ठोकी थी। उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच 6 जनवरी 1999 में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था, जबकि आखिरी वनडे मैच 20 सितंबर 1998 को पाकिस्तान के खिलाफ खेला था।जिसके बाद उन्होंने दिसंबर 1999 में क्रिकेट के सभी फॉर्मेट में संन्यास ले लिया। 

    सिद्धू ने अपने क्रिकेट करियर में कुल 7,615 रन बनाए। सिद्धू ने अपने टेस्ट करियर में 51 टेस्ट मैच खेले, जिसमें उन्होंने 42.1 की औसत से 3,202 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 9 शतक और 15 अर्धशतक जड़े। उनका उच्चतम स्कोर 201 रहा। 

    वहीं सिद्धू ने अपने वनडे करियर में 136 मैच खेले, जिसमें उन्होंने 37.1 की औसत से कुल 4,413 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 6 शतक और 33 अर्धशतक जड़े। उनका वनडे में उच्चतम स्कोर 134 नॉट आउट रहा।

    Navjot and Navjot Kaur Siddhu

    नवजोत सिंह सिद्धू बहुत खुशमिजाज और सात्विक व्यक्ति हैं। वे अपनी शेरों-शायरी से लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। सिद्धू की पत्नी का नाम नवजोत कौर है, जो पेशे से एक डॉक्टर हैं और पॉलिटिशियन है। सिद्धू के दो बच्चे हैं। बेटी का नाम राबिया और बेटे का नाम करण है। 

    सिद्धू की लवस्टोरी की बात करें तो जब सिद्धू ने नवजोत को पहली बार देखा तो उन्हें उनसे प्यार हो गया। जिसके बाद सिद्धू को नवजोत मानाने में काफी समय लगा। नवजोत कौर जिस रास्ते से गुजरती थी वहां एक चिकन की दूकान थी। इसी दूकान पर सिद्धू रोज चिकन खाते थे और नवजोत का इंतजार करते रहते थे। नवजोत जैसे ही अपनी एक सहेली के साथ निकलती थी सिद्धू उनके पीछे-पीछे चलने लगते थे। काफी दिनों पीछा करने के बाद कौर को इनके प्यार का अहसास हुआ था।

    Navjot Kapil Sharma

    नवजोत सिंह सिद्धू ने टीवी करियर की शुरुआत ‘द ग्रेट इंडियन लाफ्टर चैलेंज’ शो से की थी। इस शो में उन्होंने जज के तौर पर काम किया। इसके बाद सिद्धू बिग बॉस 6 के कंटेस्टेंट रहे लेकिन यहां कुछ हफ्ते बिताने के बाद राजनीतक विवादों के कारण उन्हें शो बीच में ही छोड़ना पड़ा। इसके बाद वे कपिल शर्मा के साथ कॉमेडी नाइट्स विद कपिल और दी कपिल शर्मा शो में नजर आए। लेकिन विवादों के चलते उन्हें ये शो भी छोड़ना पड़ा।

    सिद्धू ने 2004 के लोकसभा चुनावों में भाजपा की तरफ से अमृतसर की सीट पर जीत हासिल की थी। इसके कुछ समय बाद कोर्ट केस के चलते उन्हें अपना पद छोड़ना पड़ा था, लेकिन दोबारा वे इस सीट से जीते। 2014 के आम लोकसभा चुनावों में उन्हें अमृतसर की सीट तो नहीं मिली, लेकिन उन्होंने भाजपा के लिए प्रचार किया। 28 अप्रैल 2016 को उन्हें राज्यसभा का सदस्य मनोनीत किया गया। लेकिन उन्होंने बागी तेवर अपनाते हुए कांग्रेस का दामन थाम लिया। यहां वे पंजाब सरकार में पर्यटन और सांस्कृतिक मामलों के मंत्री रहे। इसके बाद उन्हें पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया। जिसके बाद उन्होंने तत्कालीन पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह खिलाफ मोर्चा खोला। दोने को के बीच काफी मतभेद निर्माण हो गए। लेकिन सिद्धू ने उन्हें अमरिंदर को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया। जिसके बाद पंजाब में नए मुख्यमंत्री के तौर पर चरणजीत सिंह चन्नी को चुना गया।