मराठवाड़ा में क्रीड़ा संस्कृति को देंगे अधिक प्रोत्साहन: रिजिजू

औरंगाबाद. भारतीय क्रीड़ा प्राधिकरण (Sports Authority of India) के राष्ट्रीय उत्कृष्टता केन्द्र में स्वीमिंग पुल, सिंथेटिक हॉकी टर्फ के उद्घाटन के लिए आज केन्द्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू औरंगाबाद पहुंचे. केन्द्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू (Union Sports Minister Kiran Rijiju) ने यहां कहा कि मराठवाड़ा के खिलाड़ियों में अधिक खेल क्षमता है। यह क्षमता और अधिक बढ़ाने के लिए भारतीय क्रीड़ा प्राधिकरण ने यहां राष्ट्रीय उत्कृष्टता केन्द्र के माध्यम से खिलाड़ियों को अधिक प्रोत्साहन देने का निर्णय लिया है. उन्होंने उम्मीद जताई कि आगामी ओलंपिक स्पर्धा में प्राधिकरण के लगभग 20 खिलाड़ी भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

केन्द्रीय मंत्री रिजिजू ने आगे कहा कि औरंगाबाद मराठवाड़ा की राजधानी है। अजंता/एलोरा जैसे विश्व की मशहूर धरोहरें यहां हैं। यहां के लोग संस्कृतिप्रिय, क्रीड़ा प्रेमी व मेहनती हैं। इन स्थानों पर राष्ट्रीय उत्कृष्टता केन्द्र के माध्यम से धनुर्विद्या, भारोत्तोलन, जिम्नॉस्टिक, हॉकी आदि शाखाओं से खेल का प्रशिक्षण दिया जाता। 

खेल मंत्री ने कहा कि देश में एक राज्य में एक खेल इस तर्ज पर विचार किया जा रहा है। परंतु औरंगाबाद में 7 क्रीड़ा विधाओं को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में मुंबई, नागपुर तथा औरंगाबाद के राष्ट्रीय उत्कृष्टता केन्द्र तैयार किए गए हैं। इस अवसर पर साई केन्द्र में साहित्य खरीदी के लिए 5 करोड़ रुपए मंजूर किए गए। साथ ही 300 बेड का छात्रावास भी शुरू करने का घोषणा की गई। इस अवसर पर मंच पर सांसद डॉ. भागवत कराड, सांसद इम्तियाज जलील, विधायक अंबादास दानवे, विधायक अतुल सावे, बामू विश्वविद्यालय के कुलगुरु डॉ. प्रमोद येवले, प्राधिकरण के संचालक वी.पी. भंडारकर उपस्थित थे।