Uttar Pradesh Ambulance Drivers Strike : Police action on ambulance strike in Ballia, UP, case registered against more than 250 drivers
Representative Photo

  • भंडारा की स्थिति

भंडारा. कोरोना संकट के दौरान, स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत आने वाले अस्पताल के एम्बुलेंस चालकों ने समय पर दौड़कर कई लोगों की जान बचाई है. दुर्घटना, प्रसुती या अन्य कारणों के मामले में, पिछले 8 महीनों में भंडारा जिले में 440 लोगों की जान बचाने के लिए एम्बुलेंस चालकों ने एक अच्छा काम किया है. इस वजह से वह भी वास्तव में एक कोरोना योद्धा है. 

नौकरी में स्थायी करने की मांग

जिले में 108 एवं 102 एम्बुलेंस चालकों के तहत 68 कर्मचारी है. इसमें 108 एम्बुलेंस के तहत 18 एम्बुलेंस चालक और वाहक है. प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं अन्य केंद्रों के तहत 102 एम्बुलेंस चालकों की संख्या 52 है. 8 महीनों में, कई लोग इन एम्बुलेंस चालकों द्वारा प्राप्त समय के अनुसार सुविधाएं प्रदान करके जान से बच गए है. लेकिन इन ड्राइवरों के लिए सुविधा की कमी है. डाक्टर एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए उपलब्ध सुविधा इन एम्बुलेंस चालकों के भाग्य में नहीं है. कोरोना संकट के दौरान अपनी जान जोखिम में डालने के बावजूद, सरकार एवं प्रशासन डेढ़ दशक से इनकी ओर अनदेखी कर रहे है. अन्य कर्मचारियों के अनुसार 50 लाख रु. का बीमा लेना चाहिए एवं नौकरी में स्थायी किया जाए ऐसी मांग है. 

कोरोना संकट में मदद

काल आने पर मरीजों को उपस्थित होना जरूरी है. किसी भी समय में या संकट के समय उपस्थित होना चाहिए. समय पर स्वास्थ्य देखभाल पाने से रोगियों को बचाने में सफलता मिलती है. यदि वर्तमान समय में इस एम्बुलेंस चालक एवं वाहक की समस्या का समाधान नहीं किया गया, तो भी उनकी सेवा जारी रहेगी.

दुर्घटनाग्रस्त मरीज को बचाया

पहेला पालगांव मार्ग पर दुर्घटना में एक लाइनमैन गंभीर रूप से घायल हो गया. ऐसे समय में, ड्राइवर डोंगरे ने एक पल के लिए भी देरी नहीं की और केवल 15 मिनट में एम्बुलेंस द्वारा जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. और उसकी जान बचाई. आज यह लाइनमैन सुरक्षित है. उसे समय पर उपचार प्रदान किए जाने का समाधान है.  

डाक्टर, कर्मचारियों को सुविधा

स्वास्थ्य विभाग द्वारा डाक्टरों, कर्मचारियों के लिए आवश्यक साहित्य उपलब्ध है. लेकिन यह सुविधा एंबुलेंस चालकों को मुहैया नहीं कराई गई है. मरीजों को बिना कीटों के ले जाना पडता है. वाहन चालकों के लिए कम सुविधा है.