LPG subsidy to BPCL consumers will continue even after privatization: Pradhan

तुमसर. रसोई गैस सिलेंडर के दाम अचानक बढ़ने से जहां आम आदमी पर महंगाई की मार पड़ी है, वहीं महिलाओं की रसोई का बजट बिगड़ गया है. दामों में हुई वृद्धि से महिलाएं परेशान हो गईं हैं. कुछ लोग जानकारी के अभाव में पुरानी कीमत 627 रुपये लेकर गोदाम पहुंचे थे. तब बढ़े हुए दाम सुनकर परेशान हो गए थे. अब रसोई गैस की कीमत में 100 रु. सरकार ने बढ़ा दिए हैं.

किचन पर पड़ेगा असर: भैरम

गृहिणी रत्ना भैरम का कहना है कि सरकार ने रसोई गैस के दाम बढ़ाकर लोगों की कमर तोड़ दी है इस बार रसोई गैस 100 रुपये महंगा कर दिया है. गत कुछ माह से  प्याज ने लोगों को रुलाया था. अब रसोई गैस ने आग में घी डालने का काम किया है. जिस परिवार की आय सीमित हो उसके लिए 100 रुपये काफी मायने रखते हैं. इससे हमारे किचन पर असर नही पड़े ऐसा कैसे हो सकता है.

रसोई की सेहत बिगड़ेगी : मलेवार

गृहिणी राजश्री ने कहा कि गैस सिलेंडर के दाम बढ़ने से रसोई का बजट फिर बिगड़ गया है. इस बार घरेलू गैस सिलेंडर पर इतनी वृद्धि होने से वह परेशान हैं. सरकार रसोई गैस के इस्तेमाल को बढ़ाने के लिए कई योजना चला रही है. वहीं दामों को बढ़ाकर हमारी जेब पर बोझ डाल रही है. हमारे पास कोई उपाय नहीं है. घर के किन कामों में कटौती करें.

जेब पर पड़ेगा बोझ : बेदरकर

गृहिणी संध्या बेदरकर का कहना है कि महंगाई के चलते रसोई चलानी मुश्किल हो गई. कीमतों में इतना भारी उछाल आना परेशान करने वाला है. रसोई घर से हमारे घर का बजट नियंत्रित होता है.  गैस का दाम बढ़ने से हमारे जेब पर असर पड़ेगा. महंगाई की मार से हम लोग अब परेशान हो गये हैं. आय सीमित है मगर खर्च लगातार बढ़ते जा रहे हैं.

सब्सिडी का अता-पता नहीं : पडोले

गृहिणी अंजली पडोले बताती हैं कि सरकार गैस के दाम तो बढ़ा रही है, लेकिन लोगों को कितनी सब्सिडी मिलेगी इसका किसी को पता नहीं है. गैस सिलेंडर के दाम अचानक बढ़ाकर आम लोगों की कमर तोड़ने का काम किया गया है.