tiger
Representational Pic

    • सावली और चिमूर तहसील में हुई घटना

    सावली/चिमूर. सावली और चिमूर तहसील में हुई दो अलग अलग बाघ के हमले में एक किसान गंभीर रुप से घायल हो गया वहीं चिमूर के महादवाडी में गाय की मौत हो गई है. किसान के घायल होने की घटना आज हुई है वहीं 27 सितंबर को बाघ के हमले में दुधारु गाय की मौत हो गई है. दोनों घटनाओं से दहशत फैली है.

    सावली तहसील के पाथरी जंगल में आज दोपहर 3 बजे किसान सुनिल देविदास चापले (35) नित की भांति पाथरी वनक्षेत्र अंतर्गत आने वाले कक्ष क्रं. 160 में  अपने मवेशियों को जंगल में चराने गया था. अचानक उसके सामने बाघ आ गया और उस पर हमला कर घायल कर दिया. किंतु उसने चतुराई दिखाते हुए बाघ के हमले को बचाया और झाडियों में छुपते हुए जोर जोर से चिल्लाना शुरु कर दिया. आवाज सुनकर पास के किसान उसकी सहायता के लिए दौडे तो बाघ जंगल में भाग गया.

    घटना की सूचना वनविकास महामंडल पाथरी के वनपरिक्षेत्र अधिकारी को दी. सूचना के आधार पर सहायक व्यवस्थापक ए.एम. कुडमेथे के मार्गदर्शन में पाथरी वनपरिक्षेत्र के वनपाल वाई.एस. नान्हे, वनरक्षक पी.एस. मलांडे,  डी. जी, पवार, वी. डब्ल्यू. चौधरी ने मौके पर पहुंचकर पंचनामा कर घायल को अंतरगांव प्राथमिक केंद्र में दाखिल किया. जहां से आगामी उपचार के लिए जिला सरकारी अस्पताल गडिचरोली भेज दिया गया. 

    दूसरी घटना में नेरी के के समीप कोकोवाडा (पेंढरी) निवासी दौलत किसन चौधरी अपनी गाय चराने के लिए महादवाडी जंगल में ले गया था. वहां पर बाघ ने गाय पर हमला कर दिया जिसमें गाय की मौत हो गई है. 27 सितंबर को दौलत अन्य मवेशियों के साथ अपनी दुधारु गाय को चराने ले गया था जहां पर बाघ ने हमला कर दिया जिसमें गाय की मौत हो गई. नेरी वनपरिक्षेत्र के सहायक सी.एन. रासेकर को सूचना मिलते ही 28 सितंबर को घटनास्थल पर जाकर पंचनामा किया है.