धान उत्पादन और निर्यात बढ़ाने प्रयासरत रहे-जिलाधीश गुल्हाने

    अमृत महोत्व वर्ष पर निर्यतकों का सम्मेलन

    चंद्रपुर. चंद्रपुर जिले के मूल, सावली, सिंदेवाही, नागभीड, ब्रम्हपुरी आदि तहसील में मुख्य रुप से उच्च श्रेणी के धान की पैदावार की जाती है. इसलिए जिले को धान का कटोरा कहा जाता है. इसलिए जिले में धान का उत्पदन और निर्यात वृध्दि के लिए जिले में निर्यात प्रचलन परिषद की स्थापना की गई है. जिले में धान उत्पादन और निर्यात बढ़ाने के लिए प्रयत्नशील रहने की अपील जिलाधीश अजय गुल्हाने ने की.

    आजादी अमृत महोत्सव वर्ष के अवसर पर स्थानीय एन.डी. होटल में आयोजित निर्यातदारों के सम्मेलन के उद्घाटन अवसर पर जिलाधीश बोल रहे थे. इस अवसर पर सुक्ष्म, लघु एवं मध्यम विकास केंद्र के सहायक संचालक वाई.सी. बघेल, जिला उद्योग केंद्र के महाव्यवस्थापक स्वप्निल राठोड, जिला अग्रणी बैंक व्यवस्थापक प्रशांत धोंगडे, एमआईडीसी एसोसिएशन के अध्यक्ष मधुसुदन रुंगटा प्रमुखता से उपस्थित थे.

    जिलाधीश गुल्हाने ने कहा कि भारत की आजादी को 75 वर्ष बीत चुके हैं. उस संबंध में, भारत सरकार ने ‘आजादी अमृत महोत्सव’ उपक्रम शुरु किया है. इस महोत्सव के तहत जिले के उद्योगपति, राइस मिल मालिक और उद्योगपतियों की हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए निर्यातकों की बैठक का आयोजन किया गया है. भारत सरकार और महाराष्ट्र राज्य द्वारा संयुक्त रूप से 15 अगस्त 2021 से 15 अगस्त 2022 तक देश की स्वतंत्रता के इतिहास की समीक्षा करने और भारत के सांस्कृतिक गौरव को सामने लाने के लिए आयोजित किया है. इसमें उद्योगपतियों और संगठनों की भागीदारी अपेक्षित है.

    उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार देश में निर्यातकों की भागीदारी बढ़ाने के लिए विभिन्न योजनाएं लागू करती है, देश की आर्थिक स्थिति अंतरराष्ट्रीय व्यापार में देश की हिस्सेदारी पर निर्भर करती है. इसके लिए यदि प्रत्येक जिला, राज्य उत्पादित वस्तुओं का निर्यात करता है तो इससे देश की प्रतिष्ठा बढ़ाने में मदद मिलेगी.  केंद्र सरकार की एजेंसियां ​​हैं जो निर्यातकों को विभिन्न एजेंसियों के साथ समन्वय करने के लिए प्रोत्साहित कर सकती हैं. इस अमृत महोत्सव का मुख्य उद्देश्य है जिला, राज्य और देश की प्रगति में योगदान देना. 

    सुक्ष्म, लघु, मध्यम उद्योग के सहायक संचालक बघेल ने कहा कि जिले में धान की पैदावार अधिक होती है, उसका उत्पादन बढाकर निर्यात भी बढाया जा सकता है. सम्मेलन में विविध उद्योग के प्रतिनिधि और बैंकर्स उपस्थित थे.