योग भवन निर्माण के लिए एक करोड़ रुपये देंगे: विधायक जोरगेवार

    • प्राचीन काल से ही योग प्रकृति की अनमोल देन 
    • अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर विश्व योग नृत्य महोत्सव का आयोजन

    चंद्रपुर. आज की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में इंसान स्वास्थ्य की उपेक्षा करने लगा है. लेकिन कोरोना संकट ने हमें सिखाया है कि स्वस्थ शरीर के बिना कोई भी धन महान नहीं है. योग हमारे शरीर, मन, आध्यात्मिकता और सामाजिक कल्याण में सुधार करता है.  योग प्राचीन काल से मनुष्य को दिया गया प्रकृति का एक अनमोल उपहार है. यदि आप शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहना चाहते हैं, तो आपको बिना किसी असफलता के हर दिन कम से कम एक घंटा योग करना होगा ऐसा प्रतिपादन विधायक किशोर जोरगेवार ने विश्व योग दिवस पर पुलिस मैदान में योग डांस फैमिली ट्रस्ट और यंग चांदा ब्रिगेड की ओर से आयोजित विश्व योग नृत्य महोत्सव के दौरान किया. 

    इस मौके पर रामनगर थाने के पुलिस निरीक्षक राजेश मुले, डा. गोपाल मुंदडा, आकाश घोडमारे, आशिष झा, एकाडे, सुरेश घोडके, प्रशांत कत्तुरवार, शशिकांत मस्के, जितेंद्र ईजगोरवार समेत यंग चांदा ब्रिगेड जिला महानगर अध्यक्ष पंकज गुप्ता, महिला नगर आयोजक वंदना हटगांवकर, श्याम हेडाऊ, विश्वजीत शाह, अमोल शेंडे, राम जंगम, विलास वंकर, विलास सोमालवार, युवती प्रमुख भाग्यश्री हांडे आदि उपस्थित थे. 

    विधायक जोरगेवार ने कहा कि चंद्रपुर प्रदूषित जिला है. ऐसे प्रदूषित और गर्म जिले में स्वस्थ रहने के लिए नियमित रूप से योग और योग नृत्य करना आवश्यक है. शरीर को ऊर्जा देने के लिए व्यस्त जीवन में कुछ समय निकालना चाहिए और योग करके शरीर को स्वस्थ रखना चाहिए. विधायक जोरगेवार ने चंद्रपुर में योग नृत्य के एक नए रूप का शुभारंभ करने के लिए आयोजकों का आभार माना. 

    योगा व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक, सामाजिक और बौद्धिक जैसे सभी आयामों को नियंत्रित करके उच्च स्तर की संवेदनशीलता देता है. स्कूलों और कॉलेजों को भी छात्रों के कल्याण के साथ-साथ पढ़ाई पर उनकी एकाग्रता बढ़ाने के लिए योग के दैनिक अभ्यास को प्रोत्साहित करना चाहिए. आज के तनावपूर्ण जीवन में हमने अपनी जीवनशैली में पूरी तरह से बदलाव कर लिया है लेकिन कोरोना के कारण हमने अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देना शुरू कर दिया है. अच्छा स्वास्थ्य ही असली धन है. 

    भारत में इस योग संस्कृति को दुनिया के अधिकांश देशों ने स्वीकार किया है और उन्होंने भी योग के लाभों का अनुभव किया है. दुनिया भर के देशों ने न केवल योग को अपनाया है, बल्कि इसे बढ़ावा भी दिया है. उन्होंने यह भी कहा कि वह चंद्रपुर में योग के महत्व के बारे में लोगों को जागरूक करने और योग अभ्यास के लिए स्वयं का भवन बनाने की पूरी कोशिश करेंगे. भवन के लिए 1 करोड रुपये प्रदान करने का आश्वासन दिया. इस योग नृत्य उत्सव में बड़ी संख्या में योग साधकों ने भाग लिया.