मार्कंड़ा देवस्थान के विकास के लिए करोड़ों मंजूर, 99 करोड़ 11 लाख की निधि से मंदिर का जीर्णोद्वार

    चामोर्शी. विदर्भ की काशि के रूप में पहचाने जानेवाले चामोर्शी तहसील के मार्कंड़ा देव में पुरात मार्कंडा देवस्थान के विकास के लिये 99 करोड़ 11 लाख रूपयों की निधि मंजूर हुई है. उक्त निधि से तीन चरण में मंदिर का कायाकल्प होगा. ऐसी जानकारी मार्कंड़ादेव धर्मशाला सभागृह में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में देवस्थान के अध्यक्ष गजानन भंडेकर, सचिव मृत्युंजय गायकवाड़, सहसचिव रामुजी तिवाड़े ने दी है. 

    महाराष्ट्र के प्राचीन मंदिरों का जतन, संवर्धन, पुनर्वसन व परिसर विकास के कार्य राज्य सरकार के माध्यम स करने संदर्भ में सरकार निर्णय लिया गया है. मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे ने मार्च 2021 में अर्थसंकल्पीय अधिवेशन में की घोषणानुसार  राज्य के आठ मंदिरों का जमन, संवर्धन व परिसर विकास कार्यक्रम महाराष्ट्र राज्य सड़क विकास महामंडल ने अपने हाथों में ले, ऐसा निर्णय लिया गया था. इसे मंत्रीमंडल की बैठक में मान्यता दी गई.

    चामोर्शी तहसील के मार्कंडादेव स्थित मार्कंड़ा शिव मंदिर का जतन, संवर्धन व परिसर विकास करना इस योजना अंतर्गत मंदिर परिसर का विकास प्रारूप तैयार किया गया था. इसमें प्रमुखता से तीन विभागों में कार्य बांटे गये है. दो चरण में दुरूती, संवर्धन करना प्रस्तावित है. विभिन्न विकासकार्यो के लिये दो हिस्सों के कार्या का अंदाजपत्रक की कुल किमंत 99 करोड़ 11 लाख रूपये है. ऐसे में पहले चरण में 29 करोड़ 89 लाख रूपयों के अंदाजपत्रक को मान्यता प्रदान की गई है. ऐसी जानकारी पदाधिकारियों ने दी.