अब जिले में खाकी लाएगी शिक्षा की क्रांती; जहां गांव, वहां लायब्ररी उपक्रम शुरू

    गड़चिरोली. राज्य के आखरी छोर पर बसा आदिवासी बहुल, नक्सल प्रभावित, अतिदुर्गम और सबसे पिछड़े जिले के रूप में अपनी पहचान रखनेवाले गड़चिरोली जिले में पिछले कुछ वर्षो से परिवर्तन नजर आ रहा है. जिला पुलिस दल नक्सल आंदोलन का सफाया करने के लिये सक्षम है. इसके अलावा पुलिस विभाग द्वारा जिले के ग्रामीण, दुर्गम और अतिदुर्गम क्षेत्र के लोगों का जीवनस्तर सुधारने के लिये प्राथमिकता दी जा रही है.

    ऐसे में पिछले दो वर्षो से जिले में शुरू पुलिस दादालोरा खिड़की योजना मानो दुर्गम क्षेत्र के लोगों को विकास की मुख्यधारा में लाने के लिये नवसंजिवनी साबित हो रही है. इसी बीच दुर्गम क्षेत्र के युवक-युवती उच्च शिक्षा लेकर उंचा मुकास हासिल करें, इसलिये  पुलिस विभाग ने अब अनोखी पहल शुरू कर दी है. अहेरी तहसील अंतर्गत आनेवाले पेरमिली उपपुलिस थाना द्वारा जहां गांव वहां लायब्ररी उपक्रम की शुरूआत कर थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों में लायब्ररी शुरू की है. जिससे अब खाकी द्वारा जिले के दुर्गम क्षेत्र में शिक्षा की क्रांती लाने की बात कही जा रही है. वहीं पुलिस विभाग के इस अनोखे उपक्रम की चहुओर सराहना की जा रही है. 

    पेरमिली में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में उपक्रम शुरू

    गड़चिरोली यह जिला अन्य सुविधाओं के साथ ही शिक्षा संदर्भ में भी पिछड़ा है. हालांकि गोंड़वाना विवि के माध्यम से जिले के युवाओं को उच्च शिक्षा के द्वार खोले गये. लेकिन दुर्गम क्षेत्र के युवा आज भी उच्च शिक्षा लेने से वंचित है. ऐसे में उच्च शिक्षा लेने  और नौकरी पाने के लिये युवाओं का ज्ञान बढ़ाने हेतु अहेरी तहसील के पेरमिली उपपुलिस थाने में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में जहां गांव-वहां लायब्ररी यह उपक्रम शुरू किया गया है.

    विशेषत: यह उपक्रम शुरू करनेवाला पेरमिली उपपुलिस थाना यह जिले का पहला थाना बना है. इस उपक्रम के लिये जिला पुलिस अधिक्षक नीलोत्पल, अपर पुलिस अधिक्षक अनुज तारे, अपर पुलिस अधिक्षक कुमार चिंता और अहेरी के उपविभागीय पुलिस अधिकारी अमोल ठाकुर के मार्गदर्शन में पेरमिली थाने के प्रभारी अधिकारी धवल देशमुख ने शुरू की है. 

    लायब्ररी में विभिन्न किताबें उपलब्ध

    पेरमिली पुलिस ने जहां गांव वहां लायब्ररी इस उपक्रम के तहत थाना क्षेत्र के चंद्रा गांव में वीर बाबुराव शेड़माके वाचनालय और पेरमिली गांव में शहीद शशिकांत मोरे नाम से लायब्ररी शुरू की है. जहां पर इस क्षेत्र के युवक और युवतियां आकर किताबों से ज्ञान ले रहे है. विशेषत: युवाओं को ज्ञान देने में किसी भी तरह की कमी न हो, इसलिये पेरमिली पुलिस द्वारा विभिन्न तरह की किताबें लायब्ररी में उपलब्ध कराई गयी है. विशेषत: युवाओं को निशुल्क रूप में इन लायब्ररी केंद्रों में पठन करने की सुविधा भी उपलब्ध कराई गयी है. जिसके कारण कुछ कर दिखाने की चाह रखनेवाले युवाओं ने पेरमिली पुलिस व जिला पुलिस दल का आभार व्यक्त किया है.

    शिक्षा से ही समाज का विकास संभव: एसपी नीलोत्पल

    जिला पुलिस अधिक्षक नीलोत्पल ने बताया कि, समाज में परिवर्तन केवल शिक्षा से ही होता है. और शिक्षा से ही समाज का विकास संभव है. जिले के दुर्गम व अतिदुर्गम क्षेत्र के युवाओं को ज्ञान मिले, इसलिये पेरमिली थाना क्षेत्र में यह उपक्रम चलाया जा रहा है. पायलट प्रोजेक्ट के रूप में यह उपक्रम शुरू किया गया है. इस उपक्रम को  सफलता मिलते ही जिले के अन्य थाना क्षेत्र में भी यह उपक्रम चलाया जाएगा. ऐसी बात उन्होंने कही है.