ST BUS
File Photo

    गड़चिरोली. रापनि कर्मचारियों को सरकारी सेवा में शामिल करने की प्रमुख मांग को लेकर 28 अक्टूबर से रापनि कर्मचरियों ने हड़ताल शुरू कर दिया है. मंगलवार को हड़ताल को 26 दिनों की कालावधि पूर्ण होकर भी सरकार द्वारा हड़ताल संदर्भ में किसी भी तरह का निर्णय नहीं लिये जाने के कारण हड़ताल करनेवाले रापनि कर्मचारियों में तीव्र नाराजगी व्याप्त है. वहीं हड़ताल तीव्र रूप से जारी रखने का निर्णय कर्मचारियों ने लिया है.

    अपनी प्रमुख मांग को लेकर गड़चिरोली विभागीय नियंत्रक कार्यालय अंतर्गत आनेवाले गड़चिरोली, ब्रम्हपुरी और अहेरी डिपो के कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू कर दिया है. इस दौरान विभाग द्वारा हड़ताल बंद कर पूर्ववत सेवा में शामिल होने के लिये हड़ताल करनेवाले कर्मचारियों को सूचना और नोटिस भी भिजवायी गई थी.

    लेकिन हड़ताल जारी रखने के कारण विभाग ने निलंबन करने की कार्रवाई शुरू कर दी है. अब तक रापनि द्वारा 80 से अधिक कर्मचारियों को निलंबित किया गया है. वहीं 30 से अधिक कर्मचारियों को सेवा समाप्ति का आदेश दिया है. इस 26 दिनों में रापनि का करोड़ों रूपयों का नुकसान हुआ है. वहीं दुसरी ओर बसें बंद होने के कारण यात्रियों के हाल बेहाल हो रहे है.