Rain-water-harvesting.

    मुंबई. मुंबई (Mumbai) में लगातार पानी की कमी (Insufficiency of Water) और बढ़ते वायु प्रदूषण (Air Pollution) को लेकर बीएमसी (BMC) गंभीर हो गई है। मुंबई के 1200 उद्यानों में रेनवॉटर हार्वेस्टिंग योजना (Rainwater Harvesting Scheme) लागू की जा रही है। बीएमसी ने अब नई बन रही सभी इमारतों में रेनवॉटर हार्वेस्टिंग प्लांट लगाना अनिवार्य कर दिया है। बीएमसी ने कहा है कि जिस इमारत में यह प्लांट नहीं लगाया जाएगा वहां बीएमसी पानी का कनेक्श्न नहीं देगी। बीएमसी अपने 24 जलाशयों में भी यह योजना लागू कर रही है।

    मुंबई में बढ़ते कांक्रीटीकरण के कारण मुंबई में पानी की बार-बार कमी से बीएमसी को रेनवॉटर हार्वेस्टिंग योजना को सख्ती से लागू करने पर मजबूर कर दिया है। रेनवॉटर हार्वेस्टिंग योजना से पानी की बचत करने में उपयोगी साबित हो रहा है। इस योजना को लागू कर समुद्र में जाने वाले बरसाती पानी को रोक कर जल इकट्ठा करने का भी प्लान है।

    होगी पानी की बचत

     बीएसमी ने 2020 में 1000 वर्ग मीटर वाली सोसायटियों में रेनवॉटर हार्वेस्टिंग योजना का अनिवार्य बनाया था। अब मुंबई में बन रही नई आवासीय परियोजनाओं में भी वर्षा जल संचयन परियोजनाओं को क्रियान्वित किया जा रहा है। बीएमसी ने म्हाडा प्राधिकरण सहित एसआरए योजनाओं में बनने वाले नए भवनों में भी यह व्यवस्था अनिवार्य कर दी गई है। जैसे-जैसे मुंबई में कंक्रीटीकरण बढ़ रहा है, वर्षा जल बहकर समुद्र में जाने की दर भी बढ़ रही है। इसलिए इस पानी को रोकने के लिए बीएमसी ने मुंबई के 1,200 पार्कों में रेनवॉटर हार्वेस्टिंग के जरिए जमा पानी का उपयोग करने का निर्णय लिया है। इससे पानी की बचत करते हुए उसकी बर्बादी सुनिश्चित होगी।

    …तो इमारतों को पानी कनेक्शन नहीं दिया जाएगा

    मुंबई में पार्कों की संख्या अधिक होने के कारण यदि इनमें रेनवॉटर हार्वेस्टिंग योजना लागू की जाती है तो इससे बड़ी मात्रा में पानी उपलब्ध हो जाएगा। इस पानी से उद्यानों में लगे पेड़ों की सिंचाई भी की जा सकेगी। बीएमसी ने स्पष्ट कर दिया है कि जिन इमारतों में रेनवॉटर हार्वेस्टिंग योजना नहीं रहेगी तो इमारतों को पानी कनेक्शन नहीं दिया जाएगा।

    • मुंबई के 1200 उद्यानों में रेन वॉटर हार्वेस्टिंग
    • सभी प्राधिकारणों का बीएमसी ने भेजा नोटिस
    • रुकेगी पानी की बर्बादी
    • उद्यानों में होगा सिंचित जल का उपयोग