नई पाइप लाइन फटने से लाखों लीटर पानी बर्बाद

    इगतपुरी : भावली बांध (Bhavli Dam) से इगतपुरी शहर में जलापूर्ति (Water Supply) करने वाली नई पाइप लाइन (Pipeline) पिंपरीसाडो गांव के पास फट गई, जिससे लाखों लीटर पानी बर्बाद (Waste) हो गया और खेतों में घुस गया, जिससे किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। शहर में चौबीसों घंटे पानी की आपूर्ति के लिए सरकार के 38 करोड़ रुपए के कोष से नगर परिषद (Municipal Council) के माध्यम से नल जल योजना का कार्य चल रहा है, इसके लिए भावली बांध से पानी की पाइप लाइन का काम संबंधित ठेकेदार द्वारा पिछले तीन वर्ष से किया जा रहा है। इस पाइप लाइन को बिछाने के लिए शहर की सभी सड़कों के बीच में खुदाई की गई है। 

    खेतों में पानी जाने से किसानों की फसल बर्बाद

    भावली बांध से इगतपुरी सिटी पाइप लाइन की खराब गुणवत्ता के कारण 4 जुलाई को पिंपरी-चिंचवड मार्ग के पास एक बड़ी पाइप लाइन शाम 5.30 बजे अचानक फट गई और लाखों लीटर पानी बर्बाद हो गया। पाइप लाइन फटने के कारण निकला पानी के खेतों जाने से किसानों की फसल बर्बाद हो गई। मांग की जा रही है कि संबंधित ठेकेदार किसानों को मुआवजा दिया जाए। 

    शहर में पाइप लाइन के लिए किए गए उत्खनन कार्य के कारण शहर के नालों, गटर, जल निकासी क्षेत्रों के माध्यम से की जाने वाली प्लास्टिक पाइप लाइन बंजर भूमि बन गई है। नागरिकों की मांग है कि सरकार घटिया ठेकेदार की पूरी जांच कर उसके खिलाफ कार्रवाई करे। 

    पिछले दो वर्ष से चल रही योजना 

    चार वर्ष पहले इगतपुरी में नगर परिषद झील और तालेगांव में जीवन प्राधिकरण झील से पानी की कमी के कारण भावली बांध से जलापूर्ति योजना को मंजूरी दी गई थी। यह योजना पिछले दो वर्ष से चल रही है। इस पाइपलाइन के लिए लगभग 38 करोड़ रुपए स्वीकृत किए जा चुके हैं और कार्य प्रगति पर है। संबंधित ठेकेदार ने भी इगतपुरी शहर में सभी प्लास्टिक पाइप का उपयोग किया है और इस पाइपलाइन में किया गया कार्य घटिया गुणवत्ता का है। 

    सभी सड़कें खोद कर रखी गई हैं

    नगर नियोजन के अभाव में शहर की सड़कें, सीवरेज, आपातकालीन प्लाट आदि लम्बित हैं और नगर परिषद के ठेकेदार पाइप लाइन बिछाने के गड्ढे में निजी टेलीफोन केबल बिछा रहे हैं और जनता का पैसा बर्बाद किया जा रहा है। शहर की सभी सड़कें खोद दी गई हैं और अब नई सड़कों के निर्माण के लिए पैसा कब आएगा इसकी कोई गारंटी नहीं है।