अवैध निर्माण के विरोध में कांग्रेस ने दिवा प्रभाग में किया आंदोलन

  • मनसे के पदाधिकारी भी मौजूद रहे

ठाणे. वैश्विक महामारी कोरोना काल (Global epidemic corona period) के दौरान पूर्ण रूप से संचार बंदी (Lockdown) में दिवा (Diva), मुब्रा (Mubra), कलवा (Kalwa) के साथ शहर के अन्य परिसरों में अवैध निर्माण (Illegal construction) कार्य कैसे हुआ? इसके विरोध में पार्टी के पदाधिकारियों ने ठाणे शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष एड. विक्रांत चव्हाण (Thane City District Congress President Ad. Vikrant Chavan) के नेतृत्व में दिवा प्रभाग समिति (Diva Division Committee) के सामने कार्यकर्ताओं के साथ आंदोलन (protest) किया। इसमें मनसे के पदाधिकारियों ने भी भाग लिया। 

फेरीवालों से हर महीने 3 करोड़ रुपये की धन उगाही का आरोप

सोमवार को आयोजित पत्रकार परिषद में ठाणे कांग्रेस अध्यक्ष विक्रांत चव्हाण ने अवैध निर्माण कार्य व फेरीवालों के पास से हर महीने 3 करोड़ रुपये की धन उगाही का आरोप एक अधिकारी लगाया और इसकी जांच सीआईडी से करवाने की मांग की। साथ ही मनपा के दिवा प्रभाग समिति के सामने आंदोलन कर सभी अवैध निर्माण कार्य को तत्काल ध्वस्त करने की मांग की। साथ ही उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि इस अवैध निर्माण में अधिकारी व स्थानीय राजनेताओं की मिलीभगत से कोरोना काल के समय का लाभ लिया गया।

इस अवसर पर शहर जिला कांग्रेस महासचिव व प्रवक्ता सचिन शिंदे, मुंब्रा प्रभाग समिति सभापति दिपाली मोतीराम भगत, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अनिल सालवी, नगरसेवक शानू पठान, अनिल भगत, सतोष भोईर, मनसे विभाग प्रमुख संतोष पाटिल, मनसे उपविभाग प्रमुख शरद पाटिल, समाजसेवक बाबुराव मुंडे शहर कांग्रेस उपाध्यक्ष भोलेनाथ पाटिल, नाना कदम, वैशाली भोसले, अनघा कोकणे, रविंद्र कोली, रेखा मिरजकर, मयूर भगत, राजू शेट्टी, वसीम खान आदि उपस्थित थे।  

सहायक आयुक्त ने किया आंदोलन वापस लेने का आग्रह 

कांग्रेस द्वारा दिवा प्रभाग समिति के बाहर किये जा रहे आंदोलन को लेकर यहां के सहायक आयुक्त महेश आहेर ने आंदोलनकारियों से मुलाकात की और संबंधितों पर कार्रवाई करने का आश्वासन पत्र दिया और आंदोलन वापस लेने के लिए आग्रह किया।