तलेगांव डिपो से दौड़ी पहली बस, एसटी के 2 कर्मचारी लौटे काम पर

    आष्टी शहीद (सं). गत पखवाड़े से शुरू राज्य मार्ग परिवहन महामंडल के कर्मचारियों की हड़ताल को मंगलवार को ब्रेक लग गया. दो कर्मचारी काम पर लौटने से तलेगांव डिपो से पहली बस चल पड़ी. पंद्रह दिनों की प्रतीक्षा के बाद शुरू की गई बस सेवा आष्टी से तलेगांव मार्ग पर जारी रही. मंगलवार को दोपहर 12.15 बजे बस क्रमांक एमएच 12 इएफ 6854 बस डिपो के बाहर निकली. इस बस में रोजंदारी गुट क्रमांक 1 के चालक नंदकिशोर भांगे व वाहन पीएम दाढे थे. पहले फेरी में बस में यात्रियों की संख्या कम थी. परंतु लालपरी फिर से सड़कों पर दौड़ने से सभी ने उसका स्वागत किया. इससे पूर्व भी तलेगांव डिपो के यांत्रिकी विभाग के पांच कर्मचारी काम पर लौटे थे. 

    अब भी कुछ कर्मचारी मांगों पर अड़े हैं

    काम पर लौटने वालों में जेबी देवढे, मालती क्षीरसागर, सुनीता गाढे, वैशाली नाईक व उमेश भलावी का समावेश है. इससे तलेगांव बस डिपो दो गुटों में विभाजित दिखायी दे रहा है. एक ओर कुछ कर्मचारी पंडाल डालकर अपनी मांगों पर अड़े हुए है तो कुछ कर्मचारी सेवा समाप्ति के डर से काम पर लौटने लगे है. तलेगांव डिपो में कुल 115 कर्मचारी कार्यरत है, जिसमें से 13 कर्मचारी रोजंदारी पर होकर 8 कर्मचारियों की सेवा समाप्ति की गई है. उनमें से आज दो कर्मचारी काम पर लौटे.

    इसके पूर्व यांत्रिकी विभाग के 5 कर्मी वापस आए 

    यांत्रिकी विभाग में कुल 20 कर्मचारी होकर उसमें से पांच कर्मचारी काम पर आये. फिलहाल तलेगांव डिपो में 71 में से 2 कर्मचारी ड्यूटी पर कार्यरत है. गत पखवाड़े से शुरू हड़ताल के कारण तलेगांव बस डिपो को करीब 50 लाख रुपए का नुकसान हुआ है. ऐसे में आज छुटी बस ने चार फेरियां पूर्ण की, जिसमें 50 यात्रियों ने सफर किया.

    महामंडल की बस ने लगाई 4 फेरियां 

    मुख्यमंत्री व परिवहन मंत्री की बिनती का सम्मान करके मंगलवार को दो कर्मचारी काम पर लौटे है. मंगलवार को बस ने चार फेरियां तलेगांव-आष्टी मार्ग पर छोड़ी गई, जिसमें करीब 50 यात्रियों ने सफर किया.

    -एसपी पांडे, डिपो प्रमुख-तलेगांव श्यापं.