समस्या: शहर के 50% ATM बने सिरदर्द, सुविधाओं का अभाव, कार्डधारकों को हो रही परेशानी

    वर्धा. नागरिकों को पैसे निकालने में कोई दिक्कतें न हो तथा कभी भी उनकी पैसों की जरूरत पूरी हो सके, इस उद्देश्य से विविध बैंकों ने अपनी सेवा का विस्तार करते हुए शहर में एटीएम सुविधा शुरू की. परंतु शहर की हालात यह है कि, लगभग 50 फीसदी एटीएम नागरिकों के लिए सिरदर्द बन गए हैं. लापरवाही विभागीय अधिकारियों के चलते नागरिकों को सुविधा का लाभ लेने में परेशानी हो रही है. शहर के 50 फीसदी एटीएम काम नहीं कर रहे हैं.

    मशीन में आए दिन तकनीकी खराबी

    पिछले पांच वर्षों से अधिकतर एटीएम में दिक्कते हैं. कभी किसी एटीएम में राशि नही रहती तो कही मशीन ही खराब मिलती है. अक्सर तकनीकी खराबी सामने आ रही है. कुछ एटीएम में लाइट नहीं जलती. एटीएम मशीन के रूम में लगे एसी तक काम नहीं करते हैं. यहां तक कि सीसीटीवी कैमरे भी केवल शोपिस बने हुए है. सुरक्षा की किसी तरह की व्यवस्था नहीं हैं. सिक्युरिटी गार्ड तो लगभग सभी एटीएम से गायब हैं. एटीएम सेंटर का हाल जितना बताओ उतना कम है. क्योंकि इसका संचालन ओर जिम्मेदारी उठानेवाले लापरवाही बरत रहे हैं. परिणामस्वरूप नागरिकों को पैसे निकालने के लिए एक एटीएम से दूसरे एटीएम घूमना पड़ रहा है. 

    AAP ने उठाया मुद्दा

    एटीएम की सुरक्षा तथा असुविधा का मुद्दा आम आदमी पार्टी ने उठाते हुए रोष व्यक्त किया है. एटीएम की सुविधाओं की ओर ध्यान नहीं दिया तो आंदोलन करने की चेतावनी आम आदमी पार्टी के जिला उपाध्यक्ष प्रकाश लालचंद डोडानी ने दी है.

    अधिकतर CCTV कैमरे भी बंद

    एटीएम की सुरक्षा काफी महत्वपूर्ण है. अनेक से धोखाधड़ी तक एटीएम के जरिए होती है. अनेक लोग पैसे निकालने आते हैं. जिससे सुरक्षा का ध्यान रखते हुए एटीएम कक्ष में लगे सीसीटीवी कैमरे सही से काम करते हैं या नहीं, इसकी जांच होना जरूरी है. परंतु अधिकतर सीसीटीवी कैमरे बंद हैं. जिससे सुरक्षा का मुद्दा उपस्थित हो रहा है.