नप वापस लेगी थाने की ईमारत, सभा में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित

  • स्कूल स्थानांरित करने का लिया निर्णय

वर्धा. सोमवार को नगर परिषद की हुई सर्वसाधारण सभा में रामनगर पुलिस थाने को दी गई ईमारत वापस लेने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया गया़  स्कूल की ईमारत जर्जर होने के कारण विद्यार्थियों की पढ़ाई के समय सुरक्षा का प्रश्न निर्माण हो गया है़  जिससे पुलिस थाने की ईमारत खाली करवाकर वहां स्कूल स्थलांतरित करने का निर्णय लिया गया है.

परिणामवश रामनगर पुलिस थाने के लिए अब पुलिस विभाग को दूसरी जगह की तलाश करनी पड़ेगी़  नगर परिषद की सर्वसाधारण सभा में मुख्याधिकारी, नगराध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सभापति एवं नगरसेवक उपस्थित थे़  जिसमें कुल 37 प्रस्तावों पर चर्चा कर इसे पारित किया गया़  जिसमें से रामनगर पुलिस थाने की ईमारत का मुद्दा चर्चा में रहा है़  विद्यार्थियों की सुरक्षा का मुद्दा रहने के कारण सभी पदाधिकारी एवं सदस्यों ने अपनी सम्मति दर्ज कराई.

2015 में पुलिस थाने को दी थी ईमारत 

बजाज चौक स्थित शहर पुलिस थाना तथा सेवाग्राम पुलिस से थाने का भार बढ़ने के आपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगाने में दिक्कतें आ रही थी़ं  जिसके बाद गृह विभाग ने रामनगर एवं सावंगी इस प्रकार 2 पुलिस थानों की निर्मिति करने का फैसला लिया़  उपरांत नगर परिषद की 23 अक्टूबर 2015 में हुई सर्वसाधारण सभा में महाराणा प्रताप स्कूल की 943.81 स्क्वेयर मीटर जगह पुलिस थाने को देने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया गया़  तब नवंबर 2015 से  31 अक्टूबर 2018 तक 3 वर्ष का कान्ट्रैक्ट कर यह ईमारत पुलिस थाने को दी थी.  

17 लाख रुपए किराया बकाया

पुलिस थाने से प्रति माह 17 हजार 650 रुपए किराया तय हुआ था़  2018 में कान्ट्रैक्ट समाप्त होने के बाद फिर से नया कान्ट्रैक्ट करने की जरूरत थी़  लेकिन पुलिस विभाग ने इस ओर अनदेखी करते हुए नया कान्ट्रैक्ट भी नहीं किया तथा किराया भी नहीं चुकाया़  जिससे अबतक 17 लाख रुपए किराया पुलिस विभाग की ओर बकाया होने की जानकारी नगर परिषद द्वारा प्राप्त हुई है.  

थाने के लिए नई जगह की तलाश

महाराणा प्रताप स्कूल की ईमारत जर्जर हो गई है़  विद्यार्थियों की सुरक्षा का मुद्दा सामने करते हुए नगर परिषद ने अब रामनगर पुलिस थाने की ईमारत खाली करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है़  जिससे पुलिस प्रशासन को थाने के लिए नई जगह किसी भी हालत में तलाशनी पड़ेगी.