Temple culture more important than hospital culture: Dilip Ghosh

    कोलकाता: भवानीपुर उपचुनाव (Bhavanipur By-Poll Election) के प्रचार के दौरान तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के कार्यकर्ताओं ने भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) पर हमला कर दिया। भाजपा नेता पर हुए हमले का मामला लगातार गरमाता जा रहा है। इसी को लेकर भाजपा का प्रतिनिधि मंडल शाम पांच बजे केंद्रीय चुनाव आयोग से मुलाकात करने वाला है। वहीं उसके पहले बीजेपी ने आयोग से उप चुनाव रद्द करने की मांग कर दी है। 

    टीएमसी कार्यकर्ताओं ने मुझे गाली दी 

    खुद पर हुए हमले को लेकर दिलीप घोष ने पत्रकार वार्ता का आयोजन कर राज्य सरकार और पुलिस पर कई आरोप लगाए। घोष ने कहा, “जब मैं आज भवानीपुर में चुनाव प्रचार कर रहा था, तब टीएमसी कार्यकर्ताओं ने मुझे गालियां दीं। मैं एक टीकाकरण केंद्र में कुछ लोगों से मिल रहा था, तभी कुछ लोगों ने मुझे घेर लिया और धक्का-मुक्की करने लगे। हमारे एक कार्यकर्ता को बुरी तरह पीटा गया।”

    पुलिस ने नहीं की मदद 

    घोष ने कहा, “मुझ पर भी हमला हुआ। मेरी सुरक्षा ने इसे रोकने की कोशिश की और उन्होंने हमलावरों को डराने के लिए अपनी बंदूकें निकाल लीं। अर्जुन सिंह को भी घेर लिया गया और उन्हें ‘वापस जाओ’ के नारों के बीच क्षेत्र छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा। स्थानीय पुलिस ने नहीं की मदद।”

    जानते हुए भी चुनाव आयोग चुप 

    भाजपा नेता ने कहा, “चुनाव आयोग सब कुछ जानता है। हमने उनसे दिल्ली और कोलकाता में कई बार शिकायत की है। इसके बावजूद सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं किए गए। अगर हम मतदाताओं तक नहीं पहुंच सकते तो चुनाव कराने का कोई मतलब नहीं है। लोग लगातार दहशत में जी रहे हैं।”