a k sharma

    लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री ए.के. शर्मा (A. K. Sharma) ने प्रदेश के नगर निकायों में नागरिक सुविधाओं के सुचारू संचालन और कार्यक्रमों के सफल क्रियान्वयन एवं जन-शिकायतों के प्रभावी निस्तारण के लिए और इसके लिए पूर्व में उनके द्वारा शुरू की गयी ‘सम्भव’ (SAMBHAV) और डेडिकेटेड कमांड एवं कन्ट्रोल सेन्टर (DCCC)  को और असरदार और प्रभावी बनाने के लिए राज्य व्यापी टोल-फ्री नम्बर-1533 की शुरूआत की।

    इस दौरान उन्होंने सहारनपुर, मेरठ, लखनऊ, वाराणसी, अयोध्या, गोरखपुर, मुरादाबाद और गाजियाबाद के नगर आयुक्तों और मेयर से इस सेवा के ट्रॉयल के लिए बात की और सेवा के सुचारू संचालन के लिए निर्देशित भी किया। उन्होंने सभी नगर निगमों के अधिकारियों को निर्देशित किया कि बीएसएनएल की कोई समस्या हो, तो उसे एक-दो घण्टे में ठीक कराकर 1533 सेवा को 24×7 चालू करें। उन्होंने कहा कि इसके लिए डेडिकेटेड टीम लगाई जाय, जिससे कि यह महिलाओं की 1090 और बिजली की 1912 हेल्पलाइन की तरह कार्य करें। उन्होंने इस अवसर पर मौजूद जीओ, एयरटेल और बीएसएनएल के अधिकारियों को भी इस व्यवस्था के शीघ्र संचालन के लिए धन्यवाद दिया।

    टेली कॉन्फ्रेंसिंग जनता के लिए उपलब्ध

    ए.के. शर्मा ने बताया कि प्रदेश के नगर निकायों में डेडिकेटेड कमाण्ड कन्ट्रोल सेन्टर (DCCC)  के अर्न्तगत नगर विकास विभाग की योजनाओं, जन शिकायतों, विभागीय मुद्दे, विभागीय परियोजनाओं और कार्यक्रमों की सक्षम, कड़ी और चुस्त निगरानी किए जाने के उद्देश्य से 1533 टोल फ्री की सेवाएं शुरू की जा रही हैं। इसके साथ ही DCCC एक बहुविधिक (Multi-Modal)  मंच बन रहा है जिसमें ICT द्वारा विडियो कॉन्फ्रेसिंग के साथ 4 अंकों वाले सरल एवं आसान टोल-फ्री टेलीफोन नम्बर के जरिए टेली कॉन्फ्रेंसिंग जनता के लिए उपलब्ध रहेगा।

    जवाबदेही सुनिश्चित होती रहेगी

    उन्होने यह भी बताया कि अभी यह व्यवस्था सभी नगर निगमों में निगम स्तर पर तथा सभी जिलों में जिले स्तर पर बीएसएनएल की सहयोग से हेल्पलाइन की व्यवस्था की गई है। बाद में इसे सभी नगर पालिका परिषदों और नगर पंचायत स्तर तक लागू किया जाएगा। इस व्यवस्था के तहत कहीं से भी कॉल करने पर सम्बन्धित जनपद की समस्त शिकायतें उसी जनपद में पंजीकृत होगी। कॉल यदि वहां नहीं उठती है तो वह कॉल लखनऊ स्थित निदेशक स्थानीय निकाय के कार्यालय पर डेडिकेटेड कमाण्ड कन्ट्रोल सेन्टर (DCCC)  पर स्वतः पंजीकृत हो जाएगी और पंजीकृत कॉल के बारे में जानकारी भी प्राप्त की जाएगी और संबंधित निकायों से भी इसके बारे में जानकारी ली जाएगी। इस प्रकार नगर निकायों की जवाबदेही सुनिश्चित होती रहेगी। गौरतलब है कि ए.के. शर्मा के नगर विकास विभाग का मंत्री बनने के बाद अप्रैल 2022 महीने की शुरूआत में ही इस विभाग में (DCCC) की शुरूआत की थी और उन्हीं के प्रयासों से ही माह मई में शिकायतों निस्तारण के लिए सम्भव नामक पोर्टल की भी शुरूआत की गयी थी। ये दोनों व्यवस्थाएं सुचारू रूप से संचालित हैं।

    नागरिकों ये सुविधाएं मिलेगी

    • राज्य-व्यापी टोल-फ्री नम्बर
    •  सिर्फ 4 अंक आसानी से याद रहेंगे।
    • नम्बर मिलाना निःशुल्क है। कोई शुल्क देय नहीं।
    • प्रदेश के हर कोने से टोल-फ्री नम्बर 1533 पर जुड़ना ‘सम्भव’।
    • प्रातः 05 बजे से रात्रि 09 बजे तक समस्याएं और शिकायतें दर्ज कर सकते हैं।
    • मित्रवत टेलीफोन ऑपरेटर।
    • न्यूनतम Call-Connection Time।
    • अगर Call  जनपद में किसी कारणवश नहीं उठी, तो स्वतः राज्य स्तर पर स्थापित (DCCC) पर उठाई जाएगी।
    • मोबाइल अथवा DoT Phone- दोनों से शिकायत सुगमता से । Automatically स्वतः संबधित जनपद में दर्ज होगी।
    • समयबद्ध, त्वरित एवं गुणवत्तापरक निस्तारण।
    •  नगर निकाय से जुड़ी हर समस्या का निस्तारण।
    • समस्या का अंतिम निस्तारण में लखनऊ के  (DCCC) कार्यालय की निगरानी रहेगी ताकि जबरन किसी समस्या को निस्तारित न दिखाया जा सके।