Jail warden in America accused of sexual abuse of female prisoner, two other women said - took nude photos
प्रतीकात्मक तस्वीर

    नई दिल्ली: देश में कोरोना (Coronavirus Pandemic) का खतरा अभी टला नहीं है। इसकी रफ्तार धीमी जरुर पड़ गई है। इन सब के बीच उत्तर प्रदेश लखनऊ स्थित गोसाईगंज जेल में बंद पीएफआई के दो नेताओं अंसद बदरुद्दीन व फिरोज से मिलने रविवार को परिवार के लोग पहुंचे थे। हालांकि इन लोगों ने जेल प्रशासन को जो आरटी-पीसीआर रिपोर्ट (Fake RT-PCR Reports ) सौंपी थी वह फर्जी निकली है। जिसके बाद अब जेल प्रशासन ने इन दोनों लोगों सहित परिवार के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। 

    बता दें कि उत्तर प्रदेश के जिला कारागार लखनऊ में न्यायिक हिरासत में पीएफआई के अंसद बदरुद्दीन व फिरोज के परिजनों द्वारा फ़र्ज़ी RT-PCR रिपोर्ट लगाकर मुलाकात करने की कोशिश की गई। जेल प्रशासन ने अंसद बदरुद्दीन व फिरोज के परिजनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। दरअसल कोविड के खतरे के मद्देनजर जेल में मिलने पर भी प्रशासन ने आरटी-पीसीआर रिपोर्ट जरुरी रखा हुआ है।  

    गौर हो कि फरवरी महीने में एटीएस ने पीएफआई के सदस्य केरल के रहने वाले असंद बदरूद्दीन व फिरोज को गिरफ्तार किया था। दोनों ही लोगों को गोसाईगंज जेल में बंद रखा गया है। लेकिन रविवार को परिवार की चार महिलाओं सहित पांच बच्चे अपने दो वकीलों के साथ इनसे मिलने पहुंचे थे। इन्होने जो आरटी-पीसीआर रिपोर्ट दी वह फेक निकली है। जिसके चलते इनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।