arrest

  • वाशी की खाड़ी में फेंका शव, तलाशी अभियान जारी

ठाणे. कासरवडवली पुलिस ने आखिरकार सौन्तेले भाई राकेश की हत्या कर शव को खाड़ी में फेंक फरार हुए हत्यारे भाई सचिन पाटिल को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने घर से चुराए गए 3 किलो 710 ग्राम गहनों, हत्या में उपयोग लायी गयी पिस्टल, एक जीवित कारतूस जब्त किया है. सचिन नगरसेवक माणिक पाटिल की दूसरी बीबी का बेटा है. मामले में नगरसेवक के ड्राइवर गौरव सिंह को इससे पहले गिरफ्तार किया गया है. हत्या में मदद के लिए सचिन दो लाख रुपये गौरव को देने वाला था. 

माणिक पाटिल ने इस माह की 20 तारीख को राकेश पाटिल (34) के घर में रखे गहनों के साथ गायब होने की शिकायत पुलिस में दर्ज की थी. पुलिस को उसी बीच राकेश की एक्टिवा घर से गायब होने की बात भी सामने आयी. पुलिस को गौरव सिंह के पास एक्टिवा मिली थी और उसे हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर संपत्ति विवाद के चलते सचिन द्वारा राकेश पर पिस्टल से फ़ायरिंग कर उसकी हत्या किये जाने और शव को वाशी खाड़ी में फेकनें का खुलासा हुआ था. इसके बाद से पुलिस की तीन टीम सचिन की तलाश में लगी थी.

पुलिस सचिन की अंबरनाथ, बदलापुर, कल्याण, डोंबिवली सहित नवी मुंबई के बिभिन्न परिसर में खोजबीन कर रही थी. सचिन के मोबाइल फोन का उपयोग न किये जाने से पुलिस को उसका लोकेशन नहीं मिल पा रहा था. इसी बीच पुलिस को उसके नवी मुंबई के उलवे में आने की सूचना मिली. पुलिस टीम ने जाल बिछाया और सचिन को धर दबोचा.

माणिक पाटिल की पत्नी संगीता पाटिल तथा प्रतिभा पाटिल पूर्व में नगरसेविका थी. माणिक पाटिल का संगीता के साथ लंबे समय से विवाद शुरू है. दोनों अलग रहते हैं. सचिन उसका बेटा है. ठाणे न्यायालय ने सचिन को 4 अक्टूबर तथा गौरव को 1 अक्टूबर तक पुलिस हिरासत में भेजा है. पुलिस को अभी तक खाड़ी में फेंका गया राकेश का शव हाथ नहीं लग पाया है. एसीपी पंकज शिरसाठ के मार्गदर्शन में सीनियर पी आई किशोर खैरनार की अगुवाई में  पी आई प्रदीप उगले, अविनाश कालदाते, वैभव धुमाल, एपीआई सागर जाधव, पीएसआई कुलदीप मोरे तथा लेडी पीएसआई रुपाली रत्ने ने मामले को सुलझाने में अहम भूमिका निभाई.