Maharashtra government will spend ₹ 5.43 crore on PR, BJP raises questions
File

भिवंडी. महामारी करोना वायरस संक्रमण से नियंत्रण हेतु 25 मार्च से लगाए गए लॉकडाउन से बंद हुए तमाम रोजगार के कारण आर्थिक मंदी ने लोगों की कमर तोड़ दी है. बावजूद टोरेंट पावर अपने ग्राहकों पर बकाया बिजली बिल भुगतान हेतु दबाव बना रही है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से उक्त शिकायत करते हुए एमआईएम जिलाध्यक्ष खालिद गुड्डू ने मध्य प्रदेश की तर्ज पर महाराष्ट्र में भी लॉकडाउन के कारण परेशान जनता का बिजली बिल माफ किये जाने की मांग लिखित पत्र के माध्यम से की है.

गौरतलब हो कि एमआईएम जिलाध्यक्ष शेख खालिद गुड्डू ने मुख्यमंत्री ठाकरे को भेजे पत्र में कहा है कि टोरेंट पावर कंपनी पिछले 13 वर्षों से ग्राहकों पर बिजली का बिल थोपती आ रही है. रोजगार बंदी से लोग परेशान हैं, ऐसी सूरत में बिजली बिलों की अदायगी नितांत कठिन है. खालिद गुड्डू ने कहा है कि महाराष्ट्र की जनता को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बड़ी उम्मीद है कि मुख्यमंत्री जनता की भलाई की खातिर लाकडाउन पीरियड 3 माह का बिजली बिल माफ करने का निर्णय लेंगे. भिवंडीकर इसी इंतजार में है कि सरकार की तरफ से कोई खुशखबरी आएगी, परंतु ऊर्जा मंत्री नितिन राऊत ने बिजली बिल माफ नहीं करने के बयान से जनता में मायूसी फैल गई है.

मांग पूरी न होने पर 20 जुलाई को मातोश्री तक बाइक रैली : खालिद गुड्डू 

खालिद गुड्डू ने मुख्यमंत्री से अपील की है कि जनता के हित में लॉकडाउन पीरियड अर्थात करीब 3 माह के बिजली बिल की माफी कर राहत प्रदान करें. एमआईएम जिलाध्यक्ष खालिद गुड्डू ने सरकार को चेतावनी दी है कि अगर सरकार बिजली बिल माफ करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाती तो एमआईएम कार्यकर्ताओं द्वारा 20 जुलाई को 3 बजे मातोश्री तक बाइक मोर्चा निकाला जाएगा.