social-media

    ठाणे. सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाकर कुछ लोग नागरिकों तक गलत जानकारी पहुंचाते हैं। इसी वजह से कई बार कोरोना नियमों का उल्लंघन होते हुए भी पाया गया है। अफवाहों को फैलानेवालों पर सख्त कार्रवाई करने के लिए ठाणे साइबर सेल (Thane Cyber Cell) अब सोशल मीडिया (Social Media) पर झूठे मैसेज (False Messages) और फोटो (Photo) को खंगाल रही है इसलिए जो गलत जानकारी फैलाते पाया गया तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

    गौरतलब है कि राज्य में सरकार ने कोरोना रोकथाम के लिए पूरे राज्य में संचारबंदी लागू की है। सरकारी दिशा-निर्देश के माध्यम से नागरिकों का मार्गदर्शन किया जाता है। आए दिन सोशल मीडिया पर संचारबंदी खत्म हो गई, लोकल सेवा सभी के लिए शुरू हो गई ऐसी अनेक गलत जानकारियां सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही हैं। गलत जानकारी मिलते ही लोग घूमने के लिए बाहर निकलते हैं और लोकल से यात्रा भी करना शुरू कर देते हैं। 

    साइबर पुलिस कर रही मैसेज, फोटो की जांच 

    अनजाने में नागरिक नियमों का उल्लंघन कर देते हैं। गलत जानकारी साझा करनेवाले ऐसे ही लोगों पर कार्रवाई करने के लिए ठाणे साइबर पुलिस सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे मैसेज, फोटो की जांच कर रही है। ठाणे साइबर सेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा संचारबंदी में ढील की बात से ही अफवाहों को फैलाने की संभावना को ध्यान में रखकर यह निर्णय लिया गया है। सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, इंस्ट्राग्राम और ट्विटर पर ठाणे पुलिस की नजर है, जब कि व्हाट्सएप और टेलीग्राम पर गलत जानकारी वाले मैसेज आम नागरिक पुलिस से साझा कर सकते है।

    सतर्क नागरिक भी कर सकते है मदद

    साइबर सेल के अनुसार, यदि कोई भी सतर्क नागरिक गलत जानकारी वाला मैसेज देखता है तो वह ठाणे पुलिस के ट्विटर और पुलिस के नंबर पर संपर्क कर जानकारी दे सकता है। इस दौरान नागरिक की जानकारी गोपनीय रहेगी।