ठाणे में झमाझम बरसात जारी

  • 6 परिवारों को सुरक्षित निकाला गया बाहर 

ठाणे. ठाणे में बुधवार की सुबह से ही रुक-रुक बरसात जारी थी, लेकिन शाम करीब 6 बजे के बाद झमाझम बरसात हुई. इससे जहां एक रहिवासी इमारत का कुछ हिस्सा गिर पड़ा और आनन-फानन में इस इमारत में रहने वाले करीब 6 परिवारों को निकालकर सुरक्षित स्थान पर रखा गया. कई जगहों पर तीन पेड़ गिरने और एक दर्जन से भी अधिक दो पहिए और चार पहिया वाहनों के क्षतिग्रस्त होने का मामला सामने आया है. 

रहिवासी इमारत का हिस्सा गिरा, कोई हताहत नहीं 

हालांकि सुबह के वक़्त वर्षा धीमी थी, लेकिन शाम के बाद झमाझम बरसात हुई. जिससे शहर का जनजीवन अस्त-व्यस्त हुआ. तेज हवा के साथ वर्षा होने के चलते वागले इस्टेट के शिवाजी नगर के रतनबाई कंपाउंड स्थित कृष्णा भवन इमारत के पहली मंजिल के बालकनी का बड़ा हिस्सा अचानक नीचे गिर गया. हादसे में 2 लोगों को मामूली चोट आई. घटनास्थल पर पहुंची ठाणे मनपा आपदा प्रबंधन के लोगों ने इमारत के खतरनाक हिस्से में रहने वालों को बाहर निकाला और उन्हें सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया. घोड़बंदर रोड के ओवला में श्री राम हॉस्पिटल की चहारदीवारी करीब के घर पर जा गिरी परिणामस्वरूप हरिश्चंद्र मराले के घर का नुकसान हुआ. 

लोगों के घरों में पानी भर गया 

इसके अलावा सुबह के वक़्त तेज वर्षा के चलते घोड़बंदर के गायमुख परिसर स्थित कशेली पाढ़ा गांव में लोगों के घरों में पानी भर गया था. लोगों के कमर तक पानी भरने के चलते उन्हें बाहर निकाल कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया. घोडबंदर के पातलीपाडा स्थित ऋतु इस्टेट परिसर में पेड़ गिरने से उसकी चपेट में आयी 8 दुपहिया और चार पहिया गाड़ियों का नुकसान हुआ. घोड़बंदर रोड के आनंद नगर, ओवला, गायमुख, कावेसर नाका, हीरानंदानी इस्टेट, कोपरी के बारा बंगला परिसर, हजूरी, वृन्दावन सोसाइटी सहित शहर के तमाम परिसरों में जल जमाव हुआ. कई स्थानों पर पानी घरों में घुसा. मनपा से मिले आंकड़ों के मुताबिक बुधवार को समाचार लिखे जाने तक 80.95 मिलीमीटर वर्षा हुई थी. इस साल अभी तक कुल 1932.65 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गयी है. पिछले साल इस अवधि के दौरान 2789 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गयी थी. पिछले चौबीस घंटे में शहर में पेड़ गिरने की तीन दर्जन घटना हुई. 

  • कुल शिकायतें -27
  • पेड़ गिरने की घटना-15
  • पेड़ की टहनियां गिरने की घटना -5 
  • धोकादायक स्थिति में आए पेड़ -1 
  • जल जमाव की घटना – 7