‘मिशन जीरो’ अंतर्गत कोविड के प्रभाव पर अंकुश लगाना ही प्रमुख उद्देश्य

  • पालकमंत्री एकनाथ शिंदे के हाथों हुआ मुहिम का शुभारंभ

कल्याण. “मिशन जीरो मुहिम के अंतर्गत कोविड के प्रभाव पर अंकुश लगाना ही प्रमुख उद्देश्य हैं ऐसा विचार पालकमंत्री एकनाथ शिंदे ने कल्याण में क्लब में आयोजित ‘मिशन जीरो’ मुहिम का शुभारंभ करने के अवसर पर कार्यक्रम में उपस्थितों को संबोधित करते हुए व्यक्त किया.

कल्याण-डोंबिवली मनपा क्षेत्र में अधिक से अधिक एंटीजन टेस्ट कर पॉजिटिव मरीजों को ढूंढने के लिए जन जागरूकता करने का काम मनपा क्षेत्र  में कल्याण-डोंबिवली महानगर पालिका, भारतीय जैन संस्था और एम.सी.एच.आई क्रेडाई  के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित “मिशन जीरो” मुहिम का शुभारंभ कल्याण स्पोटर्स क्लब में पालक मंत्री एकनाथ शिंदे के हाथों किया गया. पालकमंत्री ने कहा कि लोगों की सहायता, सहयोग से ही यह कोरोना रूपी संकट दूर हो सकता हैं इसका निदान जल्दी से जल्दी होना चाहिए. इसके लिए  लोकप्रतिनिधि और प्रशासन दोनों का एक साथ सहभागी होना जरूरी हैं. काम करने वाले लोगों पर कुछ लोग आरोप करते हैं यह दुर्भाग्यपूर्ण हैं.  मरीजों के लिए संवाद साधना महत्वपूर्ण है,  ट्रॅकिंग, ट्रेसिंग, टेस्टिंग, ट्रीटमेंट इन 4 सूत्रों का इस्तेमाल करो ऐसी सलाह पालकमंत्री शिंदे ने दी.

सु‍विधा होना आवश्यक 

 आयएमए कल्याण और डोंबिवली के डॉक्टरों ने  प्रारंभ से ही मानधन नहीं लेते हुए मनपा की मदत की हैं. ऐसा उल्लेख सांसद डॉ. श्रीकांत शिंदे ने अपने संबोधन में किया और कहा कि सु‍विधा होना आवश्यक हैं इसके लिए अतिरिक्त बेड की सुविधा होनी चाहिए.

सभी परिसरों में घूमेगा प्रचार रथ

मिशन जीरो मुहिम के अंतर्गत जनजागृति के लिए  5 प्रचार रथों और 5 मिनी बसों को हरी झंडी दिखा कर इस मुहिम का शुभारंभ किया गया. प्रचार रथ कल्याण-डोंबिवली महानगर पालिका क्षेत्र में सभी परिसरों में घूमेगा और जन जागरूकता का काम करेगा. मनपा क्षेत्र में विभिन्न  प्रभागों में  सहकारी गृहनिर्माण संस्था, इमारतों, चालों और झोपडपट्टी  आदि सभी परिसरों में जाकर, संशयित मरीजों और 60 साल से अधिक उम्र वाले व्यक्तियों के साथ ही  मधुमेह, उच्च रक्तदाब, कैन्सर आदि से ग्रस्त नागरिकों को पूरी जानकारी देकर उनके अंदर  जनजागृति पैदा कर उनको मनपा द्वारा निर्धारित किये गए एंटीजन टेस्ट सेंटर में टेस्टिंग के लिए भेजने का काम किया जायेगा. मिनी बसें सभी जगह भूम-घूम कर सन्देहास्पद मरीजों का एंटीजन टेस्ट करने का काम करेंगी.