सरकारी राशन की कालाबाजारी करनी जा रहे अनाज से भरे ट्रक को श्रमजीवी संगठन के कार्यकर्ताओं ने पकड़ा

    भिवंडी. भिवंडी तालुका (Bhiwandi Taluka) अंतर्गत पडघा क्षेत्र में अधिकृत सरकारी राशन (Government Ration) की दुकान से कालाबाजारी (Black Marketing) करने के लिए जा रहे अनाज से भरे ट्रक को श्रमजीवी संगठन के कार्यकर्ताओं ने पकड़कर पुलिस (Police) को सौंप दिया। राशन विभाग की तरफ से दुकानदार के विरुद्ध पडघा पुलिस स्टेशन (Padgha Police Station) में मामला दर्ज कराया गया है। पडघा पुलिस ने 160 बोरी अनाज से भरा ट्रक जप्त कर लिया है।

    गौरतलब है कि कोरोना की दूसरी लहर के कारण लगे लॉकडाउन से लोगों को दो वक्त की रोटी पाने में काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। जिसे देखते हुए राज्य सरकार की तरफ से गरीबों को मुफ्त में अनाज देने का आदेश दिया गया है। उसके बावजूद ग्रामीण भाग में रहने वाले नागरिकों की आम शिकायत है कि उन्हें अधिकृत सरकारी राशन की दुकान से राशन नहीं मिल रहा है। इस बात को ध्यान में रखकर श्रमजीवी संगठन के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं ने राशन बांटने वाले दुकानदारों पर नजर रखना शुरू किया। मंगलवार को भिवंडी तालुका के पड़घा स्थित सरकारी राशन दुकानदार सचिन बिडवी के गोदाम से अनाज से भरा एक ट्रक जाने की जानकारी श्रमजीवी संगठन के कार्यकर्ता स्वाति शिंदे को मिली उन्होंने इसकी सूचना तालुका अध्यक्ष सुनील लोणे को दिया।

    सही उत्तर ट्रक ड्राइवर नहीं दे सका

    उन्होंने तुरंत उस जगह पर जाकर नासिक की तरफ जाते हुए अनाज से भरे ट्रक को श्रमजीवी संगठन के कार्यकर्ताओं ने रोककर ट्रक में भरे राशन की जानकारी करनी शुरू की। जिसका सही उत्तर ट्रक ड्राइवर नहीं दे सका। तब सुनील लोणे ने तुरंत तालुका आपूर्ति अधिकारी दत्तात्रय बांबले से संपर्क कर इस विषय में उन्हें जानकारी दी। उन्होंने तुरंत घटनास्थल पर पहुंचकर ट्रक को  जप्त कर जांच  की कि यह अनाज किस दुकान मालिक का है और कहां से लाया गया? दुकानदार ने आपूर्ति अधिकारी को सही जवाब नहीं दिया। इस पर अधिकारी को यह विश्वास हो गया कि सरकारी राशन को कालाबाजारी कर बेचने के लिए ले जाया जा रहा था। आपूर्ति अधिकारी दत्तात्रय बांबले ने पंचनामा कर दुकानदार के विरुद्ध पड़घा पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई। पडघा पुलिस ने जीवन आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3 व 7 के तहत मामला दर्ज कर राशन से भरे ट्रक को जप्त कर लिया और दुकानदार को हिरासत में लेने की अग्रिम करवाई शुरू की।