पानी में डूब रहा था कुत्ते का बच्चा, इस तरह मां ने जान पर खेलकर बचाया, दिल छू लेगा वायरल वीडियो

    नई दिल्ली : मां तो मां (Mother) होती है, इस पूरे संसार में उसके जैसे योद्धा और कही नहीं है। एक मां ही है जो किसी भी हालत में अपने बच्चे पर आंच नहीं आने देने देती है। आए दिन सोशल मीडिया पर जानवरों के कई सारे वीडियो आते है कोई वीडियो बहुत फनी होता है तो कोई बेहद भावुक कर देने वाला होता है। आज हम आपको ऐसे ही एक वीडियो के बारे में बताने जा रहे है। 

    नाली में फस गया था बच्चा 

    दरअसल बारिश में एक कुत्ते का बच्चा (Puppy) छोटी सी नाली में फस गया। लेकिन उसके बाद उस बच्चे के मां ने जो किया वह दिल को छूने वाला लम्हा था, जिसे देखकर आपकी भी आखें नम हो जाएंगी। 

    बहुत भावुक कर देगा वीडियो 

    आपको बता दें कि इस वीडियो को फेसबुक पर Troy Lawson नाम के एक अकाउंट ने शेयर किया है। 3 मिनट से अधिक समय के इस वीडियो में, ट्रॉय ने घटना को पुरे विस्तार से बताया है। उन्होंने बताया कि भारी बारिश के बाद पानी से भरे हुए छोटे नाले की तरफ एक फीमेल डॉग जो उस बच्चे की मां है, उसने नाली के पास की जगह खोदना शुरू कर देती है।

    मां एक योद्धा

    वहां मौजूद एक शख्स को एहसास होता है कि यहां कुछ गलत हुआ है। उस गड्ढे में से वह पानी निकालने लग जाती  है। कुछ ही सेकंड में कुत्ते के बच्चे की मां अंदर घुस जाती है और भरे हुए पानी से अपने बच्चे को दांत से दबाकर बाहर निकाल लेती है। इस वीडियो को जब आप देखेंगे तो आपकी रूह कांप उठेगी।

    मां ने जोखिम में डाली जान 

    मां भला हार कहा मानती है। फिर चाहे मौत भी उसे गले क्यों न लगा ले। लेकिन वह अपने बच्चे के साथ कुछ गलत नहीं होने देती। जब उस मां ने अपने बच्चे को नाली  निकला। इसके बाद कुत्ते के बच्चे को वह शख्स काफी देर तक चेक करता रहता है और सीने पर थपकी मारता रहता है। वो सांस नहीं ले पा रहा था, जिसके बाद कुत्ते के बच्चे के सीने पर लगातार थपकी मारता ही रहा।

     

    बच्चे को बचाया 

    खुशकिस्मती रही , कुत्ते के बच्चे ने अचानक सांस लेना शुरू कर दिया और कुछ ही सेकंड में उसकी जान बच गई। फीमेल डॉग ने खुशी से अपने बच्चे को चाटना शुरू कर दिया और फिर अपना दूध पिलाया। यह वीडियो देखने के बाद आपकी भी सांस अटक सी जाएगी। अच्छी बात यह है की यह नन्हा मासून कुत्ते का बच्चा बस गया और इसे किसी भी तरह की कोई शारीरिक पीड़ा नहीं हुई है।