किसान बिल के विरोध में आप का प्रदर्शन

वर्धा. देशभर के किसान व संसद के विरोधी पार्टी का आवाज दबाते हुए कुछ चुनिंदा उद्योगपतियों के दबाव में केन्द्र सरकार ने लोकसभा व राज्यसभा में तीन किसान विरोधी बिल पारित किए. जिससे किसानों में रोष है. केन्द्र सरकार के इस असवैंधानिक किसान बिल का विरोध करते हुए आम आदमी पार्टी गुरुवार को डा आंबेडकर पुतला परिसर में प्रदर्शन किया.

केन्द्र सरकार ने तीन बिल पारित किए. जिसमें किसानों के खेतीमाल को बाजार समिति के बाहर बेचने की सहूलियत दी गई, परंतु किसानों को मिलनेवाले गारंटी मूल्य संबंधित कोई भी उल्लंख नही किया गया. जिससे किसानों के खेतीमाल के दर निजी कंपनी तय कर गारंटीमूल्य की कोई भी गारंटी कानून में नही दी गई.

आवश्यक वस्तू कानून में बदलाव कर निजी व्यापारियों को कालाबाजारी करने की छूट दे दी गई. जिससे मध्यम वर्ग को महंगाई का सामना करना पडेगा. मूल्य आश्वासन व कृषि सेवा किसान सशक्तिकरण व संवर्धन करार कानून द्वारा किसान व निजी कंपनिया करार के माध्यम से खेती कर सकेंगे, परंतु करार की शर्तो में किसानों को ठगकर निजी कंपनियां किसानों का शोषण होगा.

यह शोषण रोकने कानून में कोई भी प्रावधान नही किया गया. जिस कारण आम आदमी पार्टी ने सडक पर उतरकर प्रदर्शन किया. आंदोलन का नेतृत्व जिला संयोजक प्रमोद भोमले ने किया. आंदोलन में मयूर राऊत, ममता कपूर, रवींद्र साहू, रवी बाराहाते, तुलशीदास वाघमारे, थूल, प्रभाकर घाटे, बाला वादाफले, पुरोहित, शेख कलाम, मुन्ना मन्सुरी, रमेश गुरनुले मौजूद थे.