fraud

    वर्धा. करोड़ों रुपए की की हेराफेरी के मामले में गिरफ्तार तत्कालीन श्रम अधिकारी पवनकुमार चव्हाण के बयान दर्ज किये जा रहे है़ आर्थिक अपराध शाखा द्वारा प्रकरण से जुड़े कुछ दस्तावेज की जांच पड़ताल चल रही है़ इस प्रकरण में आरोपियों की संख्या बढ़ने की संभावना है़ बता दें कि तत्कालीन श्रम अधिकारी चव्हाण को दो दिन पहले आर्थिक अपराध शाखा पुलिस ने हिरासत में लिया था़ इसके बाद उसे न्यायालय में पेश करने पर 4 दिन की पुलिस कस्टडी सुनाई गई.

    शनिवार को चव्हाण के बयान दर्ज करने के लिए उसे आर्थिक अपराध शाखा के दफ्तर में लाया गया था़ जहां उसके बयान दर्ज किये जाने की जानकारी है़ पुलिस प्रकरण से जुड़े हर पहलूओं पर ध्यान दे रही है़ इसमें अन्य लोग भी जुड़े होने की बात लगभग स्पष्ट हो गई है़ परिणामवश सही समय आने पर अन्य आरोपी भी पुलिस के गिरफ्त में होंगे़ फर्जीवाड़े के सभी दस्तावेज इकठ्ठा किये जा रहे है़.

    वरिष्ठ कार्यालय से भी कुछ जानकारी मांगी गई है व चव्हाण के बयान दर्ज कर अन्य आरोपियों तक पहुंचने की कोशिश में पुलिस है़ फिलहाल जांच पड़ताल को लेकर आर्थिक अपराध शाखा पुलिस गोपनीयता बरत रही है.