कृषि विभाग की ओर बढ रही शिकायते, नहीं अंकुरे सोयाबीन के बीज

  • पंचनामा कर नुकसान भरपाई की मांग

वर्धा. मानसून के समय पर दस्तक देने से किसानों ने बुआई कार्य शुरु कर दिया है़ इस बार सोयाबीन का बुआई क्षेत्र अधिक बताया गया़ परंतु जिले के कुछ हस्सिो में सोयाबीन के बीज न अंकुरने की बात सामने आयी है़ अब इस संबंध में एक एक कर कृषि विभाग की ओर किसानों की शिकायते बढ रही है़ पंचनामा कर कृषि विभाग नुकसान भरपाई प्रदान करें, ऐसी मांग पीडित किसान कर रहे है़ 

बता दे कि, नगद फसल के रुप में सोयाबीन की पहचान है़ मानसून के शुरुवाती दिनों में जिले के कुछ हस्सिो में अच्छी बारिश हुई़ फलस्वरुप किसानों ने सोयाबीन के बीजो की बुआई शुरु कर दी़ कन्तिु एक सप्ताह बितने पर भी बिज न अंकुरने से किसानों की चिंता बढ गई़ गत वर्ष लौटती बारिश ने किसानों के मुंह का निवाला छीन लिया था़ परिणामवश इस बार खरीफ को लेकर किसानों को काफी उम्मीद है़ परंतु बीजो ने धोखा देने के कारण अब किसानों पर आर्थिक संकट गहरा रहा है़ किसी तरह कर्ज उठाकर किसानो ने बीजो की खरिदारी की थी़ कन्तिु अब उनकी उम्मीदों पर पानी फिरता दिखाई दे रहा है़ कुछ किसानों ने घरैलु बिजो पर नर्भिर रहना पसंद किया़ कन्तिु यह बिज पर्याप्त मात्रा में न होने से उन्हें बाहर से बिजो की खरिदारी करनी पडी़ सोयाबीन के बिज न अंकुरने से हिंगनघाट, समुद्रपुर तहसील के कुछ किसानों ने कृषि विभाग की ओर शिकायत दर्ज करने की जानकारी है़ वहीं जिन लोगो ने अबतक बुआई नहीं की, वें कृषि केंद्रो में उपरोक्त बिज वापिस करते नजर आ रहे है़ अब किसान कृषि विभाग से आस लगाए बैठा है़ किसानों की शिकायतों को गंभीरता से लेकर बिजो की जांच करें. साथ ही किसानों को नुकसान भरपाई प्रदान करें, ऐसी मांग जोर पकड रही है़  

शिकायतों पर दे रहे ध्यान – इंगले
जिला कृषि अधीक्षक अनिल इंगले ने बताया कि, कुछ किसानों की शिकायते हमें प्राप्त हुई है़ इस संबंध में तहसील कृषि अधिकारी को सूचित किया गया है़ कर्मचारी खेतों में पहुंच कर निरीक्षण कर पंचनामा तैयार कर रहे है़ किसानों को हरसंभव राहत देने का हमारा प्रयास है़