Wardha, Salon Protest

    वर्धा. सलून व ब्यूटी पार्लर व्यवसाय गत डेढ़ वर्ष से बंद पड़ा है़ अनेक व्यवसायी आर्थिक संकट में आ गए है़ं उन्हें राहत देने की मांग को लेकर संतप्त सलून व्यवसायियों ने शनिवार को पालकमंत्री सुनील केदार का काफिला रोक दिया़ इस दौरान खलबली मच गई़ पुलिस ने बल का प्रयोग कर सभी आंदोलकों को हिरासत में ले लिया़ कोरोना संकट से सलून व ब्यूटी पार्लर व्यवसाय बंद पड़े है़ं सभी दूकानदार आर्थिक संकट में घिर गए.

    परिवार का गुजरबसेरा, कर्मियों का वेतन, बिजली बिल, दूकान का किराया कैसे भरें, इस बात को लेकर चिंतित है़ हमेशा लाकडाउन में सलून व्यवसाय पर अन्याय किए जाने का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को सांसद निवास समक्ष धरना भी दिया गया़ इसके बाद 6 जून को मंत्री केदार का काफिला रोका गया़ वर्धा-नागपुर मार्ग पर मामा-भांजा समाधि के समीप यह आंदोलन किया गया़ पालकमंत्री ने आंदोलकों से चर्चा कर मांगों का ज्ञापन स्वीकारा.

    पुलिस कार्रवाई का किया निषेध 

    आत्महत्याग्रस्त सलून दूकानदार के परिवार को आर्थिक मदद प्रदान करने, दूकान व कारीगरों को स्वतंत्र पैकेज प्रदान करने, बिजली बिल माफ करने, सभी का टीकाकरण करने की मांग की गई़  पंद्रह मिनट तक चले इस आंदोलन के दौरान पुलिस ने बल का प्रयोग कर 17 आंदोलनकारियों को हिरासत में लिया. उनके नामों का पंजीयन कर छोड़ दिया गया़  कुछ समय के लिए तनाव की स्थिति पैदा हो गई थी़  पुलिस कार्रवाई का सलून, ब्यूटी पार्लर एसोसिएशन की ओर से निषेध जताया गया.