wardha

  • विद्रोही द्वारा की गई नियुक्तियां रद्द, चंदन पाल बने अंतरिम अध्यक्ष

वर्धा. सर्व सेवा संघ की ऑनलाइन हुई कार्यसमिति की सभा में संघ के कार्यकारी अध्यक्ष महादेव विद्रोही को सर्वसम्मति से पद से हटाया गया. वही नए अध्यक्ष का चुनाव होने तक चंदनपाल को संघ का अंतरिम अध्यक्ष बनाया गया.

बैठक में कार्य समिति के सदस्य, सर्व सेवा के पूर्व अध्यक्ष, प्रबंधक टस्ट्री तथा सदस्य, सेवाग्राम आश्रम के अध्यक्ष तथा चुनाव अधिकारी सहित 30 लोगों ने हिस्सा लिया. कार्य समिति की वरिष्ठ सदस्य आशा बोथरा ने महादेव विद्रोही द्वारा 31 मार्च 2020 को उनके कार्यकाल की समाप्ति के बाद उनके द्वारा किए गए असंवैधानिक और निरंकुशातापूर्ण कार्यो की चर्चा करते हुए बताया कि बिना नियम के उन्होने कार्यालय मंत्री, महामंत्री तथा दो मंत्रियों की नियुक्ति की. साथ ही पहले के महामंत्री चंदन पाल, सेवाग्राम आश्रम के अध्यक्ष टी आर एन प्रभू, ट्रस्टी आशा बोथरा आदी को हटाने के अलावा कई अवैध कार्य किए.

इसी प्रकार तेलंगाना में करोडो रुपए मूल्य की भूदान भूमि के घोटाले की जांच दबाने उनकी भूमिका रही है. तेलंगाना सर्वोदय मंडल के पूर्व अध्यक्ष जी वी वी एस प्रसाद ने इस घोटाले की जांच की मांग की. इसके साथ ही महादेव विद्रोही ने कार्यसमिति द्वारा सर्व सम्मति से नियुक्त चुनाव अधिकारी भावनी शंकर कुसूम के साथ अत्यंत अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए दुर्व्यवहार किया तथा प्रबंधक ट्रस्टी के साथ लगातार अभद्रता की.

महादेव विद्रोही के इन असंवैधानिक कार्यो और वरिष्ठ लोकसेवकों, चुनाव अधिकारी व प्रबंधक ट्रस्टी के साथ किए गए अशोभनीय व्यवहार की सभी ने निंदा की तथा सर्वसम्मति से महादेव विद्रोही को सर्व सेवा संघ के कार्यकारी अध्यक्ष पद से मुक्त करने का निर्णय लिया. उनके स्थान पर चंद्रपाल को अंतरिम अध्यक्ष के रुप में नियुक्त किया गया. महाराष्ट्र प्रदेश सर्वोदय मंडल के अध्यक्ष शिवचरण ठाकुर ने सर्व सेवा संघ का अगला अधिवेशन वर्धा में कराये जाने के लिए निमंत्रण दिया, जिसे सभी ने स्वीकार किया. उल्लेखनीय रहे कि, महादेव विद्रोही की कार्यप्रणाली पर कई बार सवालिया निशान लगे है. कुछ माह पूर्व सेवाग्राम आश्रम प्रतिष्ठान के अध्यक्ष टी एन प्रभू को महादेव विद्रोही ने पद से हटाया था. तत्पश्चात इस मामले ने तुल पकडी थी. गांधी विचारो से जुडे अनेक संगठनों ने इस पर आपत्ति जताई थी.