माणिकवाडा व धाडी में लोमडी का उत्पात, हमले में 7 घायल

  • वनविभाग की टिम पहुंची
  • ग्रामीणों पर वन्यजिओ का खतरा

वर्धा. आष्टी तहसील के माणिकवाडा व धाडी में लोमडी ने सोमवार को आतंक मचाया .उसके हमले में दोनो गांवों के करीब 7 लोग घायल हुए . इसमें एक 5 वर्षिय बालिका का भी समावेश है .घायलों को शीघ्र आर्वी के उपजिला अस्पताल में ईलाज के लिए भर्ती किया गया . वनविभाग की टिम ने दोनो गांवों को भेंट देकर जायजा लिया. घटना के बाद ग्रामीणों में दहशत व्याप्त है .

प्राप्त जानकारी के अनुसार माणिकवाडा निवासी कमला गजानन मानमोडे (62) यह खेत में जा रही थी . गांव की सीमा पर ही लोमडी ने उनपर हमला बोल दिया . इसमें महिला बुरी तरह से घायल हुई.यह बात ध्यान में आते ही गांव के नागरिक घटनास्थल की ओर दौडे, जिससे महिला की जान बची. पश्चात लोमडी ने वहां से निकल कर कुछ ही दूरी पर कल्पना रामदास खवशी (45) नामक पर हमला बोल दिया .ग्रामीणों ने शोर मचाने से लोमडी छह किमी दूरी पर स्थित ग्राम धाडी की दिशा में निकल गई .जहां लोमडी ने सागर संजय कडू (26) नामक युवक पर हमला कर दिया.जिसमें वह गंभीर रुप से घायल हुआ. इसके बाद गांव निवासी शेषराव राघोजी वाघाडे (60), रामकृष्ण गुलाब बोरजवडे (43), काजल ओंकार वाघाडे (5) सहित दुपहिया से जा रहे बालु महादेव डबले (45) पर भी हमला करने से वें लोग मामुली रुप से घायल हुए . घटनास्थल को वनविभाग के अधिकारी प्रमोद सिंग बैस, कर्मचारी जायभाये, पाटमासे, सिंगनापुरे, कोटजवरे ने भेंट दी . सभी घायलो को आर्वी के उपजिला अस्पताल में भर्ती किया गया.दोपहर 2 से शाम 6 बजे तक लोमडी का आंतक शुरु था . इससे ग्रामीणो में भागदौड मच गई थी.

बाघ, भालु के बाद अब लोमडी की दहशत
गत वर्ष परिसर में भालु ने आतंक मचा रखा था. हमले में कई लोग घायल हुए थे.साथ ही बाघीन ने भी तहसील में आतंक मचा रखा था. अब गांव में लोमडी का हमला होने से ग्रामीणो में दहशत व्याप्त है.वन्यजीओ का समय रहते बंदोबस्त करने की मांग ग्रामीण कर रहे है.