biden-trump

वाशिंगटन. एक तरफ जहाँ अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के समापन हो चुके है. वहीं इस चुनाव में, वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प, जो बिडेन के हाथों बुरी तरह हार भी चुके हैं. लेकिन इतने के बाद भी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प अपनी हार को पचा नहीं पा रहे हैं. इसी हार से बौखलाए ट्रम्प ने डिफेंस सेक्रेटरी मार्क एस्पर को पद विमुक्त कर दिया है. अब इस बात की भी मीडिया में चर्चा है कि डोनाल्ड ट्रम्प पलटवार करने की तैयारी में हैं. यही हाल  रक्षा सचिव माइक पॉम्पियो का है जो ट्रम्प के दुसरे शासन काल को लेकर अपनी भावनाएं जता चुके हैं और इस चुनाव के फैसले को नकार रहे हैं.

रक्षा सचिव माइक पॉम्पियो का बयान थोडा सकते में डाल रहा है. क्योंकि खबर है कि ट्रम्प अपनी हार से बौखला गए हैं और इसके चले अब वे रक्षा विभाग में बड़े बदलाव कर रहे हैं. जहाँ ट्रम्प प्रशासन ने पेंटागन में सबसे वरिष्ठ अधिकारीयों को बदल रहा है वहीं बदलाव इस कदम के चलते अब पेंटागन में भी चिंताएं बड़ी हैं. बीते 9 नवम्बर को राष्ट्रपति ट्रम्प ने डिफेंस सेक्रेटरी मार्क एस्पर को अपने पद से हटा दिया है और उनकी जगह राष्ट्रीय रक्षा आतंकवाद केंद्र के निदेशक क्रिस्टोफर सी मिलर को लाया गया है. लेकिन देखने वाली बात यह है कि अपने राष्ट्रपति पद के अंतिम क्षणों में ट्रम्प अचानक इस प्रकार के फैसले क्यों ले रहे हैं. इस प्रकार के फैसले अराजकता पैदा कर सकती है. वह भी तब जब नए राष्ट्रपति के तौर पर जो बिडेन शपथ लेने वाले हैं.

भारत आए थे मार्क एस्पर: 

गौरतलब है कि राष्ट्रपति चुनाव के ठीक एक सप्ताह पहले डिफेंस सेक्रेटरी मार्क एस्पर, माइक पोम्पिओ के साथ भारत स्दौरे पर आये थे. यहाँ वे भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस. जयशंकर के साथ 2 प्लस 2 मंत्रिस्तरीय चर्चाओं में भाग भी लिया था. वहीं अब इस तमाम मुद्दे पर सीनेट की विदेश संबंध समिति में रहे,  डेमोक्रेट क्रिस मर्फी ने चेतावनी दी है कि “इस कोरोना संक्रमण काल ​​के दौरान, ट्रम्प राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरनाक रूप से अस्थिर वातावरण का निर्माण कर रहे हैं .”

कारण अब जो भी हो लेकिन उक्त घटनाएं यह दर्शा रही हैं कि राष्ट्रपति ट्रम्प कुछ बड़ा करने के फिराक में हैं और वे शायद इस चुनाव के फैसले को भी चुनौती देने का सोच रहे हैं. फिलहाल यह वक़्त पर निर्भर है कि डोनाल्ड ट्रम्प क्या करने की सोच रहे हैं.