सेना से सेवानिवृत्त हो रहे विंडमैन का ट्रंप पर धमकाने का आरोप

वाशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के महाभियोग मामले में अहम भूमिका निभाने वाले राष्ट्रीय सुरक्षा सहायक लेफ्टिनेंट कर्नल अलेक्जेंडर विंडमैन ने बुधवार को सेना से सेवानिवृत्ति की घोषणा करते हुए ट्रंप पर ‘‘डराने-धमकाने और बदले की कार्रवाई का अभियान” चलाने का आरोप लगाया। अटॉर्नी डेविड प्रेसमैन की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि विंडमैन (45) 21 साल से अधिक की सेवा के बाद सेना छोड़ रहे हैं क्योंकि यह स्पष्ट हो गया है कि ‘‘जिन संस्थान में उन्होंने जिम्मेदारीपूर्वक काम किया वहां उनका भविष्य हमेशा के लिए सीमित रहेगा।”

सीएनन को मिले बयान में कहा गया है, ‘‘डराने-धमकाने और बदले की कार्रवाई के अभियान के जरिए अमेरिका के राष्ट्रपति ने लेफ्टिनेंट कर्नल विंडमैन को कानून का पालन करने या राष्ट्रपति को खुश करने के बीच चुनने को मजबूर करने की कोशिश की। उन्होंने उन्हें अपने शपथ का सम्मान करने या अपना करियर बचाने, अपनी पदोन्नति की रक्षा करने या अपने साथी सैनिकों की पदोन्नति के बीच चुनने के लिए विवश कर दिया।” एक अधिकारी ने बताया कि विंडमैन का नाम इस साल की शुरुआत में पदोन्नति के लिए रक्षा मंत्री मार्क एस्पर के पास भेजा गया लेकिन उस सूची में हफ्तों तक देरी की गई क्योंकि व्हाइट हाउस ने विंडमैन की जांच करने के लिए कहा था।(एजेंसी)