Masks and ventilation effective beyond social distance to prevent the spread of corona: research

वाशिंगटन: दुनिया में कोरोना (Corona Virus) का कहर लगातार जारी है। रोजाना हजारों की संख्या में लोगों की मौत हो रही है। इसी बीच इबोला वायरस (Ebola Virus) की खोज करने वाले प्रोफेसर जीन-जैक्स मुएंबे तांफुम (Jean-Jacques Mousbe Tamphum) ने चेताया है। उन्होंने कहा कि, “दुनिया (World) को कोरोना वायरस से भी खतरनाक (Dangerous) वायरस के लिए तैयार रहना चाहिए।” गुरुवार को सीएनएन से बात करते हुए उन्होंने यह बात कही।

मुएंबे तांफुम ने कहा, “हम उस दुनिया में रह रहे हैं, जहां रोजाना नए रोग जनक वायरस मामले सामने आएंगे। जानवरों से जो बीमारी इंसानों में फैल रही है वह बहुत खतरनाक है।” उन्होंने कहा, “नए वायरस की शुरुआत अफ्रीका से हो सकती है, जिसका मुख्य कारण वहां के उष्ण कटिबंधीय वर्षा वन है।”

दरअसल, अफ़्रीकी महाद्वीप के देश कोंगो में एक महिला को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इलाज के दौरान वैज्ञानिकों को महिला में नया वायरस मिला है, जो बेहद ही खतरनाक है। वैज्ञानिकों का कहना की यह वायरस कोरोना से तेज फैल सकता है और यह इबोला से ज्यादा खतरनाक है।

उल्लेखनीय है कि, प्रोफेसर जीन-जैक्स दुनिया में खतरनाक वायरस की खोज करने के लिए जाने जाते हैं। वह 1976 में इबोला वायरस की पहचान करने वाली समिति में शामिल थे। इसके बाद से हो वह लगातार नए नए वायरस की खोज में लगे हुए हैं।