जानें आज के दिन क्यों मनाया जाता है विश्व हृदय दिवस, क्या है इसकी वजह

    आज कल के वातावरण और दूषित हवा और खानपान से बूढ़े ही नहीं बच्चे भी बीमार हो रहे है। खान-पान की वजह से मोटापा, तनाव, नशा के कारण लोगों को कई तरह की गंभीर बीमारियां बूढ़े से लेकर बच्चे तक को हो रही है। लोगों की जीवनशैली बदल गई है। जिसके कई कई बीमारियां आज कल किसी भी उम्र के लोगों को हो रही है। इन सभी के कारण हृदय रोग भी होते है। लोगों को अपने जीवन शैली और खानपान को लेकर होने वाली बीमारियों के बारे में जानकारी नहीं होती है। इसी वजह से अब कम उम्र में भी दिल से जुड़ी बीमारियां शुरू हो जाती हैं। हृदय संबंधी बीमारियों के प्रति जागरूकता के उद्देश्य से हर साल 29 सितंबर को विश्व हृदय दिवस मनाया जाता है।

    विश्व हृदय दिवस की शुरुआत और महत्व

    लोगों को उनके खानपान उनके सेहत से जुड़ी बातों को बताकर  हृदय संबंधित रोगों के जानकारी देना। लोगों को इसके प्रति जागरुक करने के लिए मनाया जाता है। आज कल के युवाओं में भी हृदय रोग से जुड़ी बीमारियों के बारे में जानकारी देना। उनके जीवन शैली और खान-पान को लेकर बदलाव लाना। जिसे वह हृदय रोग से बच सके। इसलिए हर साल 29 सितंबर को  दुनियाभर के लोगों को इस रोग के बचाव, कारण लक्षण आदि के बारे में जागरूक करने के लिए इस विश्व हृदय दिवस मनाया जाता है।

    विश्व हृदय दिवस का इतिहास 

    विश्व हृदय दिवस को मनाने का उद्देश्य दुनियाभर के लोगों को दिल से सम्बन्धित रोगों के बारे में जागरूक करना है। इस दिन को मनाने की शुरुआत साल 2000 में की गई थी। शुरुआत में यह  विश्व हृदय दिवस सितंबर महीने के आखिरी रविवार को मनाया जाता था। फिर 2014 में  इस दिवस को मनाने के लिए 29 सितंबर की तारीख निर्धारित की गई। तब से आज तक यह दिवस 29 सितंबर को मनाया जाता है। 

    क्या है हृदय रोग के मुख्य कारण 

    आज कल लोगों की जीवन शैली में बदलाव आ गया है। कोरोना महामारी के दौरान सभी लोग घर में बंद है। घर से काम कर रहे है। जिसे लोग शारीरिक श्रम न के बराबर हो गया है। जिसके कारण लोगों में मोटापा बढ़ रहा है और हृदय रोग का सबसे मुख्य कारण होता है शरीर में कोलेस्ट्राल का बढ़ना। मोटापा बढ़ने से हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है। स्वस्थ रहने के लिए आप नियमित व्यायाम करे। तला भुना हुआ भोजन न करे। जीवन शैली में बदलाव लाये। जिसे अच्छी आदतें अपना कर इस घातक रोग से बचा जा सकता है।  

    आज कल के युवाओं में यह हृदय रोग होने का खतरा उनके खानपान और धूम्रपान के कारण बढ़ रहा है। आज कल युवा और बच्चे  जंक फूड का सेवन भी बहुत अधिक करते हैं।  जिसके कारण शरीर में जरुरत से ज्यादा नमक की मात्रा पहुचंती है। जिससे ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है, जो हृदय रोग को बढ़ावा देती है। इसलिए आज कल के युवाओं को अपने खानपान में बदलाव लाने की जरूरत है। जिससे वह स्वस्थ रहे और हृदय रोग जैसी बीमारियों से दूर रहें।