ऑनलाइन स्पर्धा के उपक्रम से मनाया जा रहा दुर्गोत्सव

यवतमाल. हरवर्ष विविध प्रकार की आकर्षक झांकीयां निर्माण करनेवाला बालाजी दुर्गोत्सव मंडल ने इसबार भव्य झांकी न बनाते हुए सादगी से दुर्गा माता की स्थापना की. दुर्गोत्सव की तर्ज पर ऑनलाइन स्पर्धा ली जा रही है. साथही अन्य सामाजिक उपक्रम मंडल द्वारा चलाए जा रहे है. गत वर्ष बालाजी चौक स्थित बालाजी भक्त मंडल ने जम्मू की वैष्णोदेवी मंदिर की प्रतिकृति निर्माण की थी. यवतमाल शहर के बालाजी भक्त मंडल का यह 55वां वर्ष है. इस मंडल ने 54 वर्ष में नवरात्री उत्सव दौरान भव्य झाकीयां निर्माण की. इस वर्ष कोरोना का बढता संक्रमण ध्यान में लेकर सरकारी नियम नुसार उत्सव मनाया जा रहा है.

इसबार बालाजी मंडल की ओर से सामाजिक उपक्रमों पर जोर दिया गया है. इसमें सॅनिटायझर, मास्क वितरण, तथा छात्रों के लिए ऑनलाइन चित्रकला स्पर्धा, जनरल नॉलेज स्पर्धा का आयोजन किया गया. रोज मंदिर परिसर सैनिटाइज किया जा रहा है. साथही सफाई अभियान चलाया जा रहा है. कोरोना संक्रमण की तर्ज पर मंडल द्वारा विविध उपाय योजना किए जा रहे है.

यहा पुलिस बंदोबस्त लगाया गया. श्रध्दालुओं को मास्क लगाकरही मंडप में प्रवेश दिया जा रहा है. देवी के दर्शन के लिए सोशल मीडिया पर मंडल के नाम से यूट्यूब चॅनल शुरू किया गया. इसपर सुबह, शाम की आरती प्रसारित की जाती है. सरकारी नियमनुसार उत्सव मनाने के लिए मंडल के मार्गदर्शक सुभाष राय, मंडल के अध्यक्ष संजय शर्मा, सचिव राहुल शर्मा, अनिल चुरा, नरेश वर्मा प्रयासरत है.

अन्नदान  कार्यक्रम रद्द

हरवर्ष मंडल द्वारा भव्य अन्नदान किया जाता है. इसमें रोज 30 से 40 हजार श्रध्दालु शामिल होते है. लेकिन इस बार कोरोना की वजह से अन्नदान का कार्यक्रम रद्द करने का निर्णय मंडल द्वारा लिया गया.