आर्णी शहर में CCTV लगाने के लिए नप को फुरसत नही

आर्णी.  शहर में सीसीटीवी कैमेरे लगाने के लिए नप को फुरसत कब मिलेगी ऐसा सवाल यहा के नागरीक पुछ रहे है. हैदराबाद में बलात्कार मामले के आरोपी सीसीटीवी कैमेरे में कैद हुए थे. जिसके आधार पर आरोपीयों को गिरफ्तार किया गया. तब सीसीटीवी कैमेरे का महत्व लोगों को समझ में आया. आर्णी शहर में भी सीसीटीवी कैमेरे लगाए जाए इस मांग का ज्ञापन आबीद फानन मित्र मंडल और झाशी की राणी बहुउद्देशिय मंडल ने तत्कालीन मुख्याधिकारी अमोल मालकर को सौपा था. इसके लिए पुर्व विधायक राजु तोडसाम ने 18 लाख का निधि उपलब्ध कराया था. लेकिन इसके बाद नगर परिषद के प्रस्ताव में सीसीटीवी के मेंटनंस पर चर्चा हुई. हर माह में आनेवाला बिजली बिल, कैमेरे की मरम्मत नप प्रशासन नही करेगी ऐसा कहा गया. तब से यह योजना चरमरा गई है. सीसीटीवी कैमेरे का मेंटेनस आर्णी पुलिस करे ऐसा आग्रह था. 

नागरिकों द्वारा नगर परिषद विविध टैक्स वसुलती है, हर सोमवार को होनेवाले साप्ताहिक बाजार से भी टैक्स वसुला जाता है. लेकिन सीसीटीवी कैमेरों का मेंटनंस करने के लिए नप तयार नही होने से नागरिक चिंतीत है. शहर में यदी सीसीटीवी कैमेरे लगते है तो शहर में होनेवाले अनुचित मामलों पर रोक लग सकती है. साथही कानुन एवं सुव्यवस्था बनी रहेगी. सीसीटीवी कैमेरों की मांग के लिए राष्ट्रवादी के पार्षद निलकुंश चव्हाण ने गत माह में नप के सामने धरना आंदोलन किया था. इस बात को ध्यान में लेकर प्रभारी मुख्याधिकारी यु.डी.तुंडलवार ने आश्वासन दिया, जिसके बाद चव्हाण ने आंदोलन पिछे लिया. अब सीसीटीवी कैमेरे लगाने के लिए नप प्रशासन को कब फुरसत मिलती है इस ओर सभी की  नजरे लगी हुई है. 

तुरंत लगेगे सीसीटीवी कैमेरे

शहर में सीसीटीवी कैमेरे लगाने के लगाने से महिलाए शहर में सुबह, शाम घुम सकेगी. साथही आवारा लोगों पर नकेल कसी जाएगी. मै स्वयं एक महिला होने से इसका महत्व समझ में आता है. इसलिए सीसीटीवी कैमेरों का समस्या दुर करने के लिए निविदा प्रक्रीया तुरंत ली जाएगी.

– अर्चना मंगाम, नगराध्यक्ष न.प.आर्णी