आर्णी के प्रतिबंधित क्षेत्र का लिया अधिकारियों ने जायजा

यवतमाल. आर्णी शहर में कोरोना पाजिटिव मरीज मिलने के पश्चात महालक्ष्मीनगर सील कर दिया गया. रविवार को अतिरक्ति जिलाधिकारी सुनील महद्रिंकर ने शहर को भेट देकर हालातों की समीक्षा की. शहर में एक व्यक्ति कोरोना पाजिटिव रिपोर्ट मिला है. जिससे प्रशासन ने महालक्ष्मीनगर परिसर को सील कर दिया गया. इस परिसर में 89 परिवार के 369 को रविवार की रात क्वारंटाइन किया गया. इन में से हाईरक्सि के सात का समावेश है. इस सभी 49 लोगों को तहसील के कोपरा के कोविड सेंअर में क्वारंटाइन किया गया है. रविवार को अतिरक्ति जिलाधिकारी सुनील महिेंद्रकर, उपविभागीय अधिकारी अनिरुद्ध बक्षी, तहसीलदार धीरज स्थूल, मुख्याधिकारी अमोल मालकर, थानेदार यशवंत बावीस्कर, वैद्यकिय अधीक्षक डा. सुनील भवरे, डा. श्याम शिंदे आदि ने महालक्ष्मीनगर परिसर को भेट दी. स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा परिसर का हालातों का जायजा लिया गया.

यंत्रणा समूचे परिसर में नजर लगाकर है. घर-घर सर्वेक्षण की शुरुवात की गई है. प्रतिबंधित क्षेत्र के नागरिकों के घर यंत्रणा द्वारा जीवनावश्यक वस्तू पहुंचाई जा रही है. बॉक्सर्‍ कोपरा के कोविड सेंटर में सुविधाओं का अभाव, अतिरक्ति जिलाधिकारी सुनील महद्रिंकर ने रविवार को प्रतिबंधित क्षेत्र को भेट दी. इस दौरान कुछ क्वारंटाइन नागरिकों ने कोविड सेंटर में पेटभर खाना नहीं मिलने की शिकायत की. इस समय प्रशासन के अधिकारी उपस्थित थे. हालांकि प्रतिबंधित क्षेत्र में दो बार सैनिटाइजर का छिडकाव किया जा रहा है. परिसर के घर-घर तक दूध, किराणा, सब्जी, आटा आदि पहुंचाकर दिया जा रहा है. उल्लेखनिय पालतू जानवरों को भी घर तक पानी, चारे की आपूर्ति की जा रही है.