Balasaheb Thorat

    अहमदनगर. विगत कुछ समय से राज्य में कोरोना की दूसरी लहर आई हुई है। कोरोना संक्रमित मरीजों (Corona Infected Patients) की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। संगमनेर तहसील (Sangamner Tehsil) समेत जिले में कोरोना मरीजों की बढ़ने वाली संख्या चिंता पैदा करने वाली है। इस पृष्ठभूमि में नागरिकों को लापरवाही छोड़कर भीड़ टालना, सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का इस्तेमाल करने जैसे नियमों का सख्ती से पालन करना चाहिए। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए हर एक नागरिक को खुद सावधानी बरतना आवश्यक है। ऐसा प्रतिपादन राजस्वमंत्री बालासाहब थोरात (Balasaheb Thorat) ने किया।

    संगमनेर के अमृतवाहिनी इंजीनियरिंग कालेज के सभागृह में कोरोना समीक्षा और उपायों के बारे में आयोजित बैठक में थोरात बोल रहे थे। नगराध्यक्षा दुर्गा तांबे, प्रांत अधिकारी डॉ. शशिकांत मंगरुले, तहसीलदार अमोल निकम, उपविभागीय पुलिस अधिकारी राहुल मदने, गुटविकास अधिकारी सुरेश शिंदे, नगरपरिषद के मुख्याधिकारी डॉ. सचिन बांगर, अमृतवाहिनी संस्था के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अनिल शिंदे, डॉ. संदीप कचोरिया, पुलिस निरीक्षक सुनील पाटिल, मुकुंद देशमुख, डॉ. वसीम शेख, डॉ. सुरेश घोलप, महेश वाव्हल आदि उपस्थित थे। 

    नागरिकों के सहयोग से ही संभव हुआ था

    राजस्वमंत्री थोरात ने कोरोना स्थिति और उपायों समीक्षा करते हुए कहा कि पिछले वर्ष कोरोना महामारी का संक्रमण रोकने के लिए राज्य में प्रभावी रूप से प्रयास किए गए। नागरिकों ने भी अच्छा साथ दिया। इस कारण कोरोना पर काबू पाना संभव हुआ।

    नागरिकों की लापरवाही से कोरोना फैल रहा

    थोरात ने कहा कि विगत कुछ समय से नागरिकों की लापरवाही के कारण फिर से कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसी स्थिति में कोरोना को रोकना प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है। नागरिकों को  प्रशासन व्दारा जारी किए नियमों का सख्ती से पालन करना आवश्यक है। नागरिकों ने नियमों का पालन नहीं किया और कोरोना मरीजों की संख्या इसी प्रकार गति से बढ़ती रहने पर जिले में फिर से लाकडाउन करना पडे़गा। ऐसी चेतावनी थोरात ने दी।