ST BUS

    • किए जाएंगे कई परिवर्तन

    अकोला. निजी वाहनों की होड़ में राज्य परिवहन निगम की बसें पिछड़ रही हैं. लाकडाउन के दौरान निगम को भारी नुकसान उठाना पड़ा है. निजी यात्री परिवहन के प्रति यात्रियों की बढ़ती प्रवृत्ति को निगम ने गंभीरता से लिया है. नतीजतन अकोला और वाशिम जिलों में 22 अधिकारियों ने सोमवार से बसों का निरीक्षण शुरू कर दिया है. पता चला है कि अकोला स्थित रापनि के संभागीय कार्यालय के 22 अधिकारी जांच में शामिल थे.

    इसमें अधिकारी, पर्यवेक्षक, वरिष्ठ लिपिक, लेखाकार शामिल हैं. यह जांच अभियान 21 से 28 जून तक चलेगा. इसके तहत गठित टीमें अकोला और वाशिम जिलों में विभिन्न रूटों पर चलने वाली बसों का निरीक्षण करेंगी. अभियान के बारे में जानकारी अत्यधिक गोपनीय रखी जाएगी और यात्री टिकटों की जांच के लिए बसों को अचानक रोक दिया जाएगा. वाहक द्वारा गबन के मामले में, संबंधित वाहक के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की जाएगी.

    स्वच्छता को प्राथमिता

    इस जांच में स्वच्छता पर जोर दिया गया है. क्या डिपो से बाहर निकालने से पहले बस को धोया और साफ किया गया था, क्या खिड़की के शीशे टूटे हैं? सीट कवर अच्छी स्थिति में है या नहीं, यह देखने के लिए कई चीजों की जांच की जाएगी. ड्राइवर ने फेस मास्क पहना था या नहीं? यह भी देखा जाएगा कि उन्होंने वर्दी पहनी थी या नहीं.

    यात्रियों के हाथ दिखाने पर रोकनी होगी बस

    राज्य परिवहन निगम का राजस्व बढ़ाने के लिए यात्रियों को सड़क पर हाथ दिखाने पर बसों को रोकने का निर्देश दिया गया है. लेकिन कई बार ड्राइवर के न चाहने पर बस को नहीं रोका जाता. इसके चलते यात्रियों को दूसरे वाहन के इंतजार में खड़ा रहना पड़ता है. साथ ही बस को नहीं रोके जाने से निगम की आर्थिक आय भी कम हो जाती है. जिससे अब अपना हाथ दिखाओ, बस रोको, इस उपक्रम पर अमल किया जा रहा है या नहीं इसकी जांच होगी.

    अवैध यात्री परिवहन के लिए जिम्मेदार कौन 

    कई बार डिपो के सामने अवैध रूप से यात्रियों का परिवहन करनेवाले वाहन दिखाई देते हैं. अवैध रूप से यात्रियों के परिवहन के लिए जिम्मेदार कौन है? बस स्टैंड से यात्रियों का प्रस्थान कई प्रकार से होता हैं, जैसे बसों को समय पर न छोड़ा जाना, यात्रियों की जानकारी के बिना बसों का बार-बार रद्द होना और बस स्टैंड से यात्रियों की चोरी. इसलिए इस बात की जांच की जरूरत है कि अवैध यात्री परिवहन के लिए कौन जिम्मेदार है.