साधारण को भी ब्यूटीफुल बनाती हैं ‘अर्चना नाइक’

    सुंदर को और अधिक सुंदर बनाना बहुत आसान है लेकिन खास बात तो तब होती है जब हम अतिसाधारण रंगरूप वाले व्यक्ति को इतना सुंदर बना दें कि देखनेवाला वाकई में कह उठे वाह! क्या मेकअप किया है। इसमें ब्यूटीशियन की कसौटी दांव पर लग जाती है। अपनी ब्यूटी टेक्निक और सौंदर्य दृष्टि के दम पर जो यह कर दिखाए, वही सही मायने में बेस्ट ब्यूटिशियन कहलाती है। यह कहना है शहर की फेमस ब्यूटीशियन अर्चना वसंत नाईक का।

    वैशाली नगर में स्थित वैलेंटिना ब्यूटी पार्लर की संचालिका अर्चना का नाम उनके हुनर के लिए लिया जाता है। उन्होंने बताया कि एक बार कोई उनके पार्लर में आता है तो फिर दोबारा वो कहीं और नहीं जाता, बल्कि उनका परमानेंट कस्टमर बनकर रह जाता है। इसके पीछे की वजह वह बताती हैं कि किसी भी सुंदर और तीखे नैन-नक्श वाली युवती या महिला का मेकअप करना और उन्हें और भी सुंदर बनाना बहुत आसान है लेकिन मैं ऐसी लड़कियों को सुंदर बनाने का काम करती हूं जो बहुत ही साधारण नैन-नक्श वाली हो।

    जिन लड़कियों को लगता है कि वो ब्यूटीफुल लग ही नहीं सकती, वह खुद मेकअप करने के बाद अपने आप को पहचान नहीं पाती। इसके पीछे अर्चना की काम के प्रति जिद, मेहनत और लगन है। साथ ही इस फील्ड में उनका 30 साल का अनुभव है। उन्होंने नागपुर समेत मुंबई और दिल्ली जैसे महानगरों में भी कुछ वर्षों तक काम किया है। सिर्फ देश ही नहीं, बल्कि विदेश जाकर उन्होंने ब्यूटी के कई गुर सीखे हैं। अर्चना ने सिंगापुर जाकर नई ब्यूटी तकनीक सीखी है।

    अर्चना 14 साल की उम्र से इस फील्ड में है। टीचर बनने की इच्छा लेकर उस दिशा में पढ़ाई करते वक्त उनकी लाइफ में ऐसा मोड़ आया कि उन्होंने नौकरी करने की बजाय बिजनेस कर स्वावलंबी बनने का निणर्य लिया। अर्चना ने बताया कि उन्होंने इसकी शुरुआत अपनी बहन के साथ की। आरंभ में ही उनका काम इतना अच्छा हुआ कि उन्होंने इसी में करिअर शुरू किया। तब से अर्चना निरंतर आगे बढ़ती गईं। अर्चना को इसके लिए हमेशा उनकी फैमिली का सपोर्ट मिला है। उनके पति वसंत और दोनों बेटों को उन पर गर्व है।

    अर्चना केवल बेस्ट ब्यूटीशियन ही नहीं हैं, बल्कि उत्कृष्ट हेयरस्टाइलिस्ट भी हैं। आयुवर्ग के अनुसार मेकअप करते समय क्या सावधानी बरती जानी चाहिए, किन प्रोडक्ट का इस्तेमाल करना चाहिए और क्या करना टालना चाहिए आदि सभी की वह जानकारी रखती हैं। यही कारण है कि उनके पास  70 साल की बुजुर्ग महिलाएं तक अपना मेकअप और 1 साल की बच्ची से लेकर हर आयुवर्ग की महिलाएं हेयर कट करवाने आती हैं। अर्चना के पति अभियंता हैं।

    उन्हें जब अर्चना के हुनर के बारे में पता चला तो उन्होंने उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। आज भी उनके पति कहते हैं कि आगे बढ़ो, जो भी जरूरत लगेगी, मैं हूं। वो अर्चना को निरंतर प्रेरित करते रहते हैं। यही कारण है कि आज उनका नाम ही ब्रांड बन गया है। नवभारत के ‘बी ब्यूटीफुल’ उपक्रम के तहत की गई बातचीत में उन्होंने मेकअप और हेयरस्टाइल्स में किए जानेवाले नए-नए एक्सपेरिमेंट पर पूछे गए सवालों पर विस्तृत जानकारी दी।

    मेकअप के क्या फायदे हैं?

    आजकल खूबसूरती का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। फिर चाहे वो ऑफिस हो या कॉलेज या फिर हाउसवाइफ ही क्यों न हो। सु्ंदर चेहरा हर किसी का ध्यान अपनी ओर खींच लेता है। सुंदर चेहरे की  वजह से आपका आत्मविश्वास डगमगाता नहीं है। चेहरे को निखारने और चमकदार बनाने के लिए मेकअप करना बहुत जरूरी है।

    मेकअप ज्यादा इफेक्टिव कब दिखता है?

    हमेशा स्किन टोन के अनुसार किया जाने वाला मेकअप ज्यादा इफेक्टिव होता है। ऐसे मेकअप नुकसान नहीं करते।  मेकअप करते वक्त उपयोग की जानेवाली सामग्री का ब्रांडेड होना भी बहुत जरूरी है। कई बार लोकल प्रोडक्ट चेहरे को हानि पहुंचाते हैं। इस प्रकार की समस्याओं से बचने के लिए प्राइमर, पाउडर और फाउंडेशन त्वचा के अनुसार होना चाहिए। जिन लोगों की त्वचा तैलीय है, उन्हें तैलीय प्रोडक्ट नहीं लेने चाहिए। ऐसे में त्वचा के रोम छिद्र बंद हो सकते हैं।

    आपके मेकअप में क्या खास है?

    मेरे पार्लर में आने वाले सभी कस्टमर को मैं पर्सनल अटेंशन देती हूं। सिर्फ कस्टमर निपटाना कभी हमारा उद्देश्य नहीं रहा, बल्कि उनका सैटिस्फैक्शन हमारे लिए मायने रखता है। तभी कस्टमर को सौ फीसदी रिजल्ट मिल पाता है। मैं खुद समय देती हूं। हेयरकट में मेरा हाथ बहुत अच्छा है इसलिए  हेयरकट मैं खुद करती हूं, उन्हें सहयोगियों के भरोसे नहीं छोड़ती। मेरे पार्लर में बेस्ट क्वालिटी के केमिकल प्रोडक्ट का इस्तेमाल किया जाता है।

    आंखों का मेकअप कितना मायने रखता है? कई बार वो बिगड़ जाता है, ऐसा क्यों?

    चेहरे के ऑलओवर मेकअप में आंखें बहुत ज्यादा मायने रखती हैं। आंखों के मेकअप पर पूरी ब्यूटी डिपेंड करती है इसलिए यह मेकअप बहुत सावधानी से करना पड़ता है। कई बार मेकअप करते वक्त आंखों का शेप बिगड़ जाता है तो कई बार उन्हें बहुत बारीक कर दिया जाता है। लेकिन मैं हमेशा आंखों का मेकअप बहुत सटीक करती हूं।

    इसके लिए ट्रिक होती है जो हर ब्यूटीशियन नहीं जानती। इसके लिए सबसे पहले आंखों का मेकअप करना पड़ता है उसके बाद चेहरे की बारी आती है। मैंने सैकड़ों युवतियों के मेकअप किए हैं लेकिन कभी भी न तो आंखों का मेकअप बिगड़ा, न ही चेहरे का शेप बदला। हर बार मैं परफेक्ट मेकअप करती हूं और कस्टमर सैटिसफाइड होते हैं।

    एज के अनुसार मेकअप में क्या फर्क होता है?

    मेकअप करते वक्त इस बात का ध्यान रखना बहुत जरूरी है कि हम जिनका मेकअप कर रहे हैं, उनकी एज क्या है। ये बात काफी मायने रखती है, वरना चेहरे पर लीपापोती दिखते देर नहीं लगती। ब्यूटीशियन का काम है कि वो हर बात को ध्यान में रखकर प्रोडक्ट का इस्तेमाल करें। उम्रदराज महिलाओं का मेकअप करते वक्त लिक्विड फाउंडेशन का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

    इसके अलावा माइश्चराइजर, सीरम और कंसीलर अप्लाय करना पड़ता है। इस बात का ध्यान रखा जाता है कि उम्र के अनुसार किसी के चहरे पर रिंकल्स रहते हैं, जिसे मेकअप से छिपाना पड़ता है लेकिन अगर गलत प्रॉडक्ट का इस्तेमाल किया गया तो झुर्रियां और ज्यादा दिखाई देती हैं। इसलिए प्रोडक्ट पर ध्यान देना बहुत जरूरी है।

    मेकअप ज्यादा समय तक टिके, इसके लिए क्या करना चाहिए?

    मेकअप करने से पहले तैयारी करनी चाहिए। मैं इसके लिए पूरी तरह से प्रिपरेशन करती हूं। मेरे द्वारा उपयोग किए जानेवाले प्रोडक्ट लांगलास्टिंग रहते हैं क्योंकि मैं कभी भी लोकल प्रोडक्ट का यूज नहीं करती। इंटरनेशनल ब्रांड का उपयोग करना हमारी खासियत है। मैं विदेश से प्रोडक्ट मंगाती हूं। तभी वह ज्यादा इफेक्टिव रहता है और अधिक समय तक टिकता है।

    ब्राइडल मेकअप में लांगलांस्टिंग मेकअप जरूरी है क्योंकि उसे कई विधियों से गुजरना पड़ता है। ड्रेस भी चेंज करना पड़ता है लेकिन मेकअप बार-बार चेंज नहीं कर सकते। इसलिए लंबे समय तक चेहरे पर टिका रहनेवाला मेकअप करना पड़ता है। ब्राइडल के ड्रेस के अनुसार तथा एक्ससरीज देखकर मेकअप और हेयरस्टाइल की जाती है।

    ऑलओवर मेकअप में हेयरस्टाइल कितनी मायने रखती है?

    जब तक ड्रेस और ओकेजन के अनुसार हेयरस्टाइल नहीं की जाती, मेकअप पूरा नहीं होता। ऑलओवर मेकअप में हेयरस्टाइल सबसे ज्यादा मायने रखती है। मैं कई तरह की हेयरस्टाइल बनाती हूं जो कस्टमर को पसंद आती है।

    बालों की केयर कैसे करें?

    हेयर ड्रायर के उपयोग से बचें क्योंकि इससे बाल डैमेज होते हैं और बालों को तेल से प्राप्त हुआ पोषण भी ड्रायर की हीट के कारण अपना प्रभाव नहीं दिखा पाएगा। इसलिए बालों को नेचुरली सूखने दें।